नई दिल्ली। थर्ड फ्रंट के गठन की सुगबुगाहट के बीच दिल्ली में आज कई गैर बीजेपी-गैर कांग्रेस नेताओं से मुलाकात के बाद टीएमसी सुप्रीमो ममता बनर्जी ने बीजेपी पर बड़ा हमला बोला. ममता ने कर्नाटक चुनाव तारीखों पर ट्वीट से लेकर कई मुद्दों पर लेकर बीजेपी को निशाने पर लिया. ममता बनर्जी ने ये भी कहा कि उन्हें कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से कोई परेशानी नहीं है.Also Read - आज सुबह 11 बजे मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे चरणजीत सिंह चन्नी, राहुल गांधी ने दी बधाई, बोले- वादों को पूरा करना जारी रखना है

ममता ने कहा, सबसे सांप्रदायिक बीजेपी है. बीजेपी से सभी सहयोगी दल भी नाराज हैं. बीजेपी के लिए अब सामान बांधने का वक्त आ गया है. उन्होंने कहा कि बीजेपी में अटलजी जैसे कुछ अच्छे लोग हैं. ममता ने कहा, कल मैं वरिष्ठ बीजेपी नेताओं यशवंत सिन्हा, अरुण शौरी, शत्रुघ्न सिन्हा और दूसरे नेताओं से मुलाकात करूंगी. हम नहीं चाहते कोई अलग थलग रहे. Also Read - Arogya Vatika: यूपी के सभी स्कूलों, कॉलेजों में होगी आरोग्य वाटिका, ये है योगी सरकार का मकसद

Also Read - सम्बन्ध खराब थे, फिर भी TMC में सम्मान मिला, ममता दीदी का आभारी हूं: बाबुल सुप्रियो

कांग्रेस नेताओं से मुलाकात नहीं करने के सवाल पर ममता ने कहा कि राहुल गांधी और मेरे बीच कोई परेशानी नहीं है. राहुल जी से बात होती रहती है. सोनिया जी की तबियत ठीक नहीं है, उनसे बाद में मुलाकात होगी. मायावती के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि मायावती की इज्जत करती हूं, उनसे क्यों नहीं मिलूंगी. अगर मायवती और अखिलेश जी मुलाकात के लिए बुलाएं तो लखनऊ भी जाऊंगी.

ममता की पवार-राउत से मुलाकात

बता दें कि सस्पेंस के बीच सीएम ममता ने आज दिल्ली में एनसीपी प्रमुख शरद पवार से मुलाकात की. शरद पवार ने पहले मुलाकात की बात को खारिज कर दिया था लेकिन बाद में दोनों के बीच ये पवार के ऑफिस में ये मुलाकात हुई. इसके पहले ममता ने एनडीए से अलग हो चुकी शिवसेना के सांसद संजय राउत से भी मुलाकात की. इससे पहले डीएमके नेता कनिमोई, वाईएसआर कांग्रेस और बीजेडी के सांसदों ने भी ममता के ऑफिस में उनसे मुलाकात की. एनडीए सरकार से अलग हुई. बीजेपी और एनडीए से नाता तोड़ चुकी टीडीपी के सांसदों ने भी ममता से मुलाकात की.

ममता बनर्जी से नेताओं की मुलाकात का सिलसिला ऐसे वक्त पर हो रहा है जब संसद में टीडीपी और वाईएसआर ने सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव का नोटिस दिया है. हालांकि भारी हंगामे के बीच अभी तक इसे पेश नहीं किया जा सका है. गुजरात चुनाव के नतीजे आने के बाद से ही ममता गैर कांग्रेस-गैर बीजेपी फ्रंट बनाने के लिए सक्रिय हो चुकी थी. यूपी लोकसभा चुनाव में बीजेपी की करारी हार के बाद विपक्षी खेमा और सक्रिय हो गया है. तेलंगाना के सीएम चंद्रशेखर राव ने ममता से मुलाकात कर तीसरे मोर्चे के गठन की कवायद तेज की. उन्होंने सभी गैर बीजेपी-गैर कांग्रेस दलों से एक मंच पर आने की अपील की.