Also Read - बंगाल में दुर्गा पूजा के मौके पर बोले पीएम मोदी- आत्मनिर्भर भारत’ के संकल्प से ‘सोनार बांग्ला’ के संकल्प को पूरा करना है

कोलकाता, 22 नवंबर | पश्चिम बंगाल में करोड़ों रुपये के शारदा चिटफंड घोटाला मामले में तृणमूल कांग्रेस के राज्यसभा सांसद सृंजय बोस की गिरफ्तारी के एक दिन बाद मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने शनिवार को केंद्र सरकार पर विभाजनकारी राजनीति अपनाने तथा उनकी पार्टी के खिलाफ षडयंत्र रचने का आरोप लगाया। ममता ने कहा कि वह डराने वाली राजनीति से पीछे नहीं हटेंगी, बल्कि उसका मुंहतोड़ जवाब देंगी। Also Read - नवरात्रि 2020 पर बंगाल के लोगों से आज जुड़ेंगे PM मोदी, 'पुजोर शुभेच्छा' के जरिए जनता को देंगे खास संदेश

पार्टी कार्यकर्ताओं को यहां संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, “हमारे सांसद को केवल इसलिए गिरफ्तार किया गया, क्योंकि एक धर्मनिरपेक्ष दलों के सम्मेलन में भाग लेने मैं दिल्ली गई थी।” प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लगातार होने वाली विदेश यात्राओं की खिल्ली उड़ाते हुए ममता ने कहा, “देश के प्रधामंत्री भारत में कितना समय ही बिताते हैं। वह आदमी जिसके खिलाफ दंगों के कई मामले दर्ज हुए वह कैसे मेरे ऊपर उंगली उठा सकता है।” Also Read - पश्चिम बंगाल में बोले जेपी नड्डा, बहुत जल्द लागू होगा नागरिकता संशोधन कानून

उन्होंने कहा, “केंद्र सरकार विभाजनकारी राजनीति कर रही है। भारत में सांप्रदायिक हिंसा सिर उठा रही है। आने वाले समय में एक लड़ाई होने वाली है। हमें लड़ना होगा। हमें किसी से डर नहीं। हम चुनौती स्वीकार करते हैं।” मुख्यमंत्री ने कहा, “यदि हमपर हमला होता है, तो हम उसका जवाब देंगे। हमें कोई आंख न दिखाए। हम आप पर निर्भर नहीं हैं।”

उन्होंने कहा, “हमारे राजनेता जैसे सोनिया गांधी शांत हैं, क्योंकि वे डरती हैं। लेकिन आप मुझे चुप नहीं करा सकते। मैं किसी से नहीं डरती। मैं चुप नहीं रह सकती।” ममता ने घोषणा की कि केंद्र सरकार द्वारा तृणमूल कांग्रेस के खिलाफ साजिश को लेकर उनकी पार्टी शहर में 24 नवंबर को एक जनसभा आयोजित करेगी।  ममता ने कहा, “शारदा ने किसे ठगा इसकी जांच नहीं हो रही। जांच इसकी हो रही है कि किसने शारदा को ठगा। मैं केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) के खिलाफ कुछ नहीं कहूंगी, क्योंकि सर्वोच्च न्यायालय ने उसकी विश्वसनीयता को लेकर पहले ही काफी कुछ कहा है।”