नई दिल्ली: पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस (TMC) की प्रमुख ममता बनर्जी गुरुवार को नई दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के शपथग्रहण समारोह में शामिल नहीं होंगी. इसकी जानकारी उन्होंने ट्वीट कर देते हुए कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने उन्हें मजबूर किया है कि वे उनके शपथ ग्रहण समारोह में ना जाऊं. ममता इस बात से नाराज हैं कि पीएम मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में चुनाव के दौरान जान गंवाने वाले बीजेपी कार्यकर्ताओं के परिवार वालों को भी आमंत्रित किया गया है.

 

बता दें कि इससे पहले खबरें आईं थी कि ममता बनर्जी 30 मई को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में हिस्सा लेंगी. इस बाबत उन्होंने कहा था कि हमने सामूहिक रूप से तय किया है कि इस आयोजन में शामिल होने का प्रयास किया जाएगा, क्योंकि यह एक औपचारिक समारोह है. हालांकि, हमें न्योता बिलकुल आखिरी समय में मिला है. उन्होंने कहा था कि एक संवैधानिक शिष्टाचार के तहत, मैं बतौर मुख्यमंत्री किसी भी अन्य मुख्यमंत्री की तरह प्रधानमंत्री या राष्ट्रपति के शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने का प्रयास करूंगी. हम कार्यक्रम में शामिल होने की कोशिश करेंगे.

पीएम के शपथग्रहण में पश्चिम बंगाल में मारे गए बीजेपी कार्यकर्ताओं के परिजन आमंत्र‍ित किए गए

इस कारण नहीं आ रहीं दीदी
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके मंत्रिपरिषद के गुरुवार के शपथ ग्रहण समारोह में बिम्सटेक देशों के प्रतिनिधियों और मशहूर हस्तियों और राजनेताओं के अलावा 54 विशेष अतिथियों को आमंत्रित किया गया है. भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि प्रधानमंत्री ने पश्मिच बंगाल में पिछले कुछ सालों में राजनीतिक हिंसा में मारे गए भाजपा कार्यकर्ताओं के परजनों को विशेष रूप से आमंत्रित किया है. भगवा पार्टी ने पंचायत, स्थानीय निकाय और संसदीय चुनावों के दौरान अपने कई कार्यकर्ताओं को खोया है. चुनावों के दौरान, मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं के खिलाफ राजनीतिक हिंसा का मुद्दा बार-बार उठाया था.

पीएम मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होंगे इतने हजार लोग, ये है भोजन का मेन्यू

पश्चिम बंगाल में अगले साल विधानसभा चुनाव
इस आमंत्रण को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल अध्यक्ष ममता बनर्जी को एक संदेश के तौर पर देखा जा रहा है. पश्चिम बंगाल में अगले साल विधानसभा चुनाव होने हैं. हाल ही में संपन्न लोकसभा चुनाव में भाजपा ने 303 सीटें जीती हैं, और पश्चिम बंगाल में पार्टी का प्रदर्शन उल्लेखनीय रहा, जहां उसने पिछले लोकसभा चुनाव की दो सीटों के मुकाबले इस बार 18 सीटों पर जीत दर्ज की.

अमित शाह को मंत्री बनाने पर बंटी भाजपा! इस कारण रह सकते हैं सरकार से बाहर