कोलकाता: पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने गलवान घाटी में चीनी सेना के साथ झड़प में शहीद हुए राज्य के दो जवानों के परिवारों को पांच-पांच लाख रुपए मुआवजा और परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी देने की बुधवार को घोषणा की. पश्चिम बंगाल के बीरभूम जिले के राजेश ओरांग और अलीपुरद्वार जिले के बिपुल रॉय सोमवार रात हुई हिंसक झड़प में शहीद हुए 20 भारतीय सैनिकों में शामिल हैं. Also Read - BJP नेताओं ने राष्ट्रपति से पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी सरकार को बर्खास्त करने की मांग की

ममता बनर्जी ने ट्वीट किया, ‘गलवान घाटी में शहीद हुए वीर जवानों के परिवारों के प्रति मेरी हार्दिक संवेदनाएं. ’ मुख्यमंत्री ने कहा, ‘देश के लिये उनके सर्वोच्च बलिदान या शोकाकुल परिवार को हुए नुकसान की भरपाई नहीं की जा सकती . मुश्किल की इस घड़ी में हम हमने धरती पुत्रों के साथ खड़े हैं. हमने शहीदों के परिवार को पांच-पांच लाख रुपये और एक सदस्य को पश्चिम बंगाल सरकार में नौकरी देने का फैसला किया है.’ Also Read - CBSE Cut Syllabus: ममता ने कहा- CBSE के नए सिलेबस के नाम पर नागरिकता, धर्मनिरपेक्षता जैसे विषयों को हटाए जाने से हैरान हूं 

बता दें कि लद्दाख की गलवान घाटी में चीनी सेना से झड़प हुई थी. इसमें बीस जवानों की जान गई थी. भारत के 20 जवान शहीद हुए थे. इस घटना पर भारत ने कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की है. पीएम मोदी ने कहा की हम कभी उकसाते नहीं हैं. अगर हमारे साथ ऐसा किया जायेगा तो इसका यथोचित जवाब देने में हम सक्षम हैं. वहीं, भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा कि चीन ने ये सब सोची समझी साजिश के तहत किया. और ज़मीनी हालात बदलने की कोशिश की. चीन अपनी भूल सुधारे. Also Read - ममता बनर्जी का बड़ा ऐलान, पश्चिम बंगाल में जून 2021 तक दिया जाएगा गरीबों को मुफ्त राशन