कोलकाता: पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) ने दिल्ली में हुई हिंसा (Delhi Violence) की निंदा करते हुए एक कविता लिखी. इस कविता के माध्यम से उन्होंने तोड़फोड़ और आगजनी की घटनाओं का जवाब मांगा है. Also Read - Coronavirus Outbreak: कोरोना संकट से निपटने में ममता बनर्जी की सहायता करेंगे नोबेल विजेता अभिजीत बनर्जी

ममता बनर्जी लिखा, ‘‘एक ओझल हुए पते की खोज, बंदूक की नोक पर देश में उफान लेता एक तूफान, शांत रहने वाले देश का हिंसक हो जाना, क्या यह लोकतंत्र का अंत है? कौन जवाब देगा? क्या कोई समाधान होगा? हम और आप बहरे और गूंगे हैं/पवित्र धरा नर्क में तब्दील हो रही है.’’ Also Read - कोरोनावायरसः पुलिस ने खाली कराया शाहीन बाग, सौ दिन से चल रहा था CAA के खिलाफ प्रोटेस्ट

बता दें कि दिल्ली में हुई हिंसा के बाद से अब तक 27 लोगों की जान जा चुकी हैं. दर्जनों लोग घायल हैं. उत्तर-पूर्वी दिल्ली जिले में भड़की हिंसा के मामले में पुलिस ने बुधवार तक 18 एफआईआर अलग-अलग थानों में दर्ज कर ली हैं. अब तक हिंसा फैलाने वालों में जिन आरोपियों की पहचान हुई है, उनमें से 106 को गिरफ्तार कर लिया गया है. जबकि हिंसा में मरने वालों की संख्या बढ़कर 27 हो गई है. दिल्ली पुलिस ने बुधवार शाम को पुलिस मुख्यालय में आयोजित एक प्रेस-कान्फ्रेंस में यह जानकारी दी. Also Read - दिल्‍ली के शाहीन बाग धरनास्थल पर फेंका गया पेट्रोल बम

पुलिस के मुताबिक, “इलाके में बुधवार को पूरी तरह शांति रही. कहीं से किसी अप्रिय घटना की खबर नहीं आई. आम नागरिकों की मदद के लिए पुलिस ने 22829334 और 22829335 दो टेलीफोन नंबर 24 घंटे के लिए शुरू कर दिए हैं, ताकि अगर आपातस्थिति में 112 पर मदद न मिल सके तो इन नंबरों पर तुरंत मदद मांगी जा सके. दिल्ली पुलिस ने आमजन से आग्रह किया है कि वह अफवाहों से दूर रहे. अफवाहे फैलाने वालों पर पुलिस भी कड़ी नजर रख रही है. संवेदनशील इलाकों में पर्याप्त पुलिस बल तैनात किया गया है. दिल्ली पुलिस के साथ साथ अर्धसैनिक भी तैनात की गई.