नई दिल्ली: गुड़गांव के सेक्टर-5 में अपनी पीजी में सो रही दो नर्सों का वीडियो बनाने के आरोप में 30 साल के एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया है. पुलिस का कहना है कि आरोपी भी उसी पीजी में रहता है. नर्सों की शिकायत के बाद भी आरोपी की पुलिस से शिकायत नहीं करने और किसी तरह की कार्रवाई नहीं करने के लिए पीजी के मालिक पर भी केस दर्ज किया गया है. पुलिस का कहना है कि दोनों नर्सें एक प्राइवेट स्कूल में काम करती हैं वहीं आरोपी भी एक प्राइवेट फर्म में काम करता है. Also Read - COVID-19 Vaccination Drive: वैक्सीन का इंतजार हुआ खत्म, दुनिया के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान के लिए देश तैयार

गुड़गांव के सेक्टर-5 पुलिस थाने में रविवार को शिकायत दर्ज कराई गई थी. शिकायत करने वाली एक 28 साल की महिला ने बताया कि जब दोपहर दो बजे वे दोनों पीजी के अपने कमरे में सो रही थीं तो उन्होंने देखा कि खिड़की के पास आरोपी खड़ा था. ध्यान से देखने पर पता चला कि वह सोते हुए दोनों का वीडियो बना रहा था. उन्होंने कहा कि हमने अलार्म बजाया, लेकिन आरोपी भागने में कामयाब रहा. Also Read - Coronavirus Vaccination: इस देश ने कोविड-19 के लिए भारत में बनी एस्ट्राजेनेका के टीके को दी मंजूरी

अगली सुबह नर्सों ने इस बारे में पीजी मालिक से शिकायत की और आरोपी के बारे में बताया. नर्सों का आरोप है कि शिकायत के बाद भी पीजी के मालिक ने उनकी कोई मदद नहीं की. नर्सों का आरोप है कि हमने इस बारे में उन्हें कई बार अगाह किया लेकिन वे हमारी सुरक्षा को लेकर थोड़े भी चिंतित नहीं दिखे. इसके बाद हमने पुलिस का रुख किया. पुलिस ने सोती हुई नर्सों की वीडियो बनाने वाले आरोपी और पीजी के मालिक के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है. Also Read - School Reopening Latest Updates: महाराष्ट्र और हिमाचल प्रदेश में खुलने जा रहे है स्कूल-कॉलेज, जानें कब से शुरू होगा शिक्षण कार्य

इस मामले की जांच कर रही सब इंस्पेक्टर किरन का कहना है कि आरोपी ने अपनी गलती मान ली है, हालांकि उसका ये भी कहना है कि उसने तुरंत वीडियो डिलीट कर दिया था. पुलिस ने आरोपी के फोन को अपने कब्जे में ले लिया है. मामले की जांच जारी है.