बेंगलुरु: तेलंगाना के पारिगी वन में एक लड़की का जला हुआ शव मिलने की घटना की जांच से पता चला है कि कर्नाटक के कलबुर्गी शहर में एक निजी नर्सिंग होम में गर्भपात की प्रक्रिया के दौरान लड़की की मौत हुई थी और उसके प्रेमी ने उसके शव को कथित तौर पर ठिकाने लगाने का प्रयास किया था.

पुलिस सूत्रों ने कहा कि 22 वर्षीय युवती का शव पड़ोसी तेलंगाना के मेढक जिले के जहीराबाद शहर के पास जंगल में मिला था. वह कलबुर्गी के ब्रह्मपुर की निवासी थी. उन्होंने कहा कि जांच के दौरान पता चला कि वह एक सेवानिवृत्त पुलिस अधिकारी के बेटे रवि कुमार (26) से प्यार करती थी. जब वह गर्भवती हुई, तो कुमार उसे तीन सितंबर को एक नर्सिंग होम ले गया और वहां खुद को उसका पति बताया.

उन्होंने बताया कि उसने उसका गर्भपात कराना चाहा, लेकिन अस्पताल में ऑपरेशन के दौरान युवती की मौत हो गई. कुमार इसके बाद उसके शव को अंतिम संस्कार के लिए कार में लेकर तेलंगाना की ओर चल दिया. पुलिस ने बताया कि लगभग 24 घंटे तक कुमार शव को कार में रखे रहा और फिर इसे पारिगी के पास जंगल में फेंक दिया तथा चार सितंबर को शव को आग लगाने की कोशिश की.

लड़की के लापता होने के बाद, उसके परिजनों ने उसे तीन दिन तक खोजा और छह सितंबर को उन्होंने पुलिस में गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई. उसके बाद जांच शुरू हुई. पुलिस ने बताया कि कुमार को हिरासत में ले लिया गया है.