कोलकाता: पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद जिले में अस्पताल के पृथक वार्ड में भर्ती मधुमेह के एक रोगी जनारुल हक की रविवार मौत हो गई. हक एक दिन पहले सऊदी अरब से लौटा था और उसे कोरोना वायरस से संक्रमण की आशंका के चलते अस्पताल में भर्ती कराया गया था. डॉक्टरों के अनुसार हक को बुखार, सर्दी और जुकाम था. Also Read - क्या यूपी बोर्ड की 10वीं और 12वीं परीक्षा में सभी छात्र-छात्राओं को पास किया गया? जानें सच

स्वास्थ्य सेवाओं के निदेशक अजय चक्रवर्ती ने कहा कि हालांकि जनारुल हक के खून और लार के नमूनों की जांच रिपोर्ट आना बाकी है लेकिन यह कहा जा सकता है कि संभवतः उसकी मौत मधुमेह से हुई. चक्रवर्ती ने कहा कि व्यक्ति गंभीर रूप से मधुमेह से पीड़ित था और इन्सुलिन ले रहा था. वह सऊदी अरब से घर लौटा था और उसके पास पिछले तीन से चार दिन से इन्सुलिन खरीदने के पैसे नहीं थे. वह बुखार, सर्दी और जुकाम से भी पीड़ित था. उसे कल मुर्शिदाबाद मेडिकल कालेज और अस्पताल के पृथक वार्ड में भर्ती कराया गया था और आज उसकी मौत हो गई. Also Read - लोगों के न आने से भूखों मरने की कगार पर जीबी रोड की सेक्स वर्कर, RSS ने पहुंचाया राशन

चिकित्सकीय जांच के नतीजों का इंतजार
उन्होंने कहा कि हम चिकित्सकीय जांच के नतीजों का इंतजार कर रहे हैं. कोरोना वायरस से उसके मरने की संभावना बहुत कम है. एक अन्य वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि केंद्र सरकार और राज्य सरकार के निर्देशानुसार हक के अंतिम संस्कार के दौरान एहतियात बरती जाएगी. Also Read - बेटे ने पुलिस से फोन कर कहा- 'पापा शराब पीकर लॉकडाउन का मजाक उड़ा रहे हैं, इन्हें काबू में करें'