ऋषिकेश: उत्तराखंड के राजाजी टाइगर रिज़र्व की मोतीचूर रेंज में आदमखोर तेंदुए ने फिर एक व्यक्ति की जान ले ली है. बता दें कि एक पखवाड़े पहले ही एक आदमखोर तेंदुए की हत्या की गई थी. ऐसे में ताजा घटना इलाके में एक अन्य नरभक्षी तेंदुए के होने का संकेत देती है.

मोतीचूर रेंज के रेंजर अधिकारी विकास रावत ने बताया कि बिहार के किशनगंज निवासी 45 साल के शाहिद का अधखाया शव गुरुवार रात गहरे जंगल से बरामद किया गया. शाहिद हरिद्वार के हर की पौड़ी इलाके में सड़क किनारे रेहड़ी लगाता था. शव को फिलहाल ऋषिकेश की मोर्चरी में रखवाया गया है.

रावत ने बताया कि इस व्यक्ति की गुमशुदगी की कोई रिपोर्ट नहीं थी और राजाजी टाइगर रिजर्व के वन कार्मिकों की नियमित जांच से यह घटना सामने आई. रेंजर रावत ने बताया कि तेंदुए के कहर से परेशान क्षेत्र में करीब 54 लेज़र बीम कैमरा ट्रैप लगाए गए हैं. वनकर्मी रोजाना नौ बजे इनकी जांच करते हैं.

गुरुवार सुबह जब वनकर्मियों के एमूनेशन डंप से लगे खांड गांव संख्या तीन की पुरानी निर्जन सड़क पर लगे कैमरा ट्रैप की जांच की गई तो उसमें 25 जुलाई की रात साढ़े नौ बजे एक व्यक्ति की फोटो जंगल की तरफ मुंह किए दिखी. वनकर्मियों ने इस आधार पर खोजबीन की. पुलिस के साथ पूरे दिन की तलाश के बाद गहरे जंगल से उक्त व्यक्ति की अधखाई लाश मिली.

3 साल में तेंदुओं की आदमखोरी की ये 22 वीं घटना है
बता दें 11 जुलाई को इसी क्षेत्र में एक अपंग आदमखोर मादा तेंदुए को गोली मारकर मौत की नींद सुला दिया गया था. देहरादून स्थित वन्य जीव संस्थान ने भी मारे गए तेंदुए के आदमखोर होने की पुष्टि की थी, जिससे जनता ने राहत की साँस ली थी. लेकिन दो हफ्ते के अंदर ही 26 जुलाई की वारदात ने राजाजी टाइगर रिजर्व प्रशासन के समक्ष फिर एक नई चुनौती खड़ी कर दी है.

(इनपुट-एजेंसी)