कोयंबटूर: सोशल मीडिया की मदद से तिरुपुर में घर पर ही प्रसव कराने की एक दंपति की योजना खतरनाक साबित हुई. एक बच्ची को जन्म देने के बाद 28 साल की महिला की मौत हो गई. पुलिस ने बताया कि महिला कृतिका का यह दूसरा बच्चा था और घर पर प्रसव के दौरान अत्यधिक रक्तस्राव से उसकी मौत हुई. कृतिका के पति उसके दोस्त और दोस्त की पत्नी की मदद से प्रसव किया. इनमें से किसी के पास भी मेडिकल योग्यता नहीं थी.

झांसी में बहुओं की अच्छी पहल: बुजुर्गों के लिए मस्ती भरी मनोरंजक शाम का आयोजन

पुलिस के अनुसार प्रसव के बाद अत्यधिक रक्तस्राव होने से कृतिका बेहोश हो गई जिसके बाद उसे और नवजात को तिरुपुर के एक सरकारी अस्पताल ले जाया गया. अस्पताल में डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया. घटना 22 जुलाई की है. बच्ची को अस्पताल में भर्ती किया गया है. स्थानीय लोगों की सूचना पर बाल विकास अधिकारियों ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई जिसके बाद पुलिस ने कृतिका के पति कार्तिकेयन को हिरासत में ले लिया. दंपति का पहले से पांच साल का एक बच्चा है.

दिहाड़ी मांगने पर मजदूर की पीट-पीट कर हत्या के जुर्म में तीन भाइयों को उम्रकैद

कार्तिकेयन एक कंपनी में काम करता है. कृतिका जब दूसरी बार गर्भवती हुई तो पति – पत्नी ने फेसबुक एवं यूट्यूब जैसी सोशल मीडिया साइट पर निर्देश देखने शुरू कर दिए. उन्होंने कृतिका के पोषण एवं उसके गर्भ में पल रहे बच्चे के स्वस्थ विकास के लिए किस तरह का आहार होना चाहिए, यह भी सोशल मीडिया से जाना.

छुप-छुपकर नहीं, खुले में करें सेक्स की बात तो मिटेगा टैबू

कृतिका को 22 जुलाई को प्रसव पीड़ा हुई और उसके पति ने अपने दोस्त प्रवीण और उसकी पत्नी को घर पर समान्य प्रसव (नॉर्मल डिलीवरी) में मदद करने के लिए बुलाया. उन्होंने मोबाइल और कंप्यूटर के जरिए निर्देश देखने के बाद सामान्य प्रसव कराना शुरू किया और कुछ समय बाद कृतिका ने बच्ची को जन्म दिया. लेकिन इसके बाद कृतिका बहुत ज्यादा रक्तस्राव होने के कारण बेहोश हो गई और उसकी मौत हो गई.