मुंबईः कांग्रेस नेता माणिकराव ठाकरे ने शुक्रवार को कहा कि महाराष्ट्र का अगला मुख्यमंत्री शिवसेना का होगा और शरद पवार के नेतृत्व वाली राकांपा ने सरकार गठन पर राज्यस्तरीय बैठकों में इस पद की मांग नहीं की है. सूत्रों ने बताया है कि मुख्यमंत्री पद पांच साल के लिए शिवसेना को दिया जा सकता है. ठाकरे ने कहा कि शिवसेना, कांग्रेस और राकांपा के नेता कुछ लंबित मामलों को स्पष्ट करने के लिए शुक्रवार को बाद में साथ में बैठेंगे और सरकार गठन का दावा करने के लिए राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मिलने के समय को लेकर फैसला लेंगे.

उन्होंने कहा, ‘‘मुख्यमंत्री शिवसेना से होगा. राकांपा ने राज्यस्तरीय बैठकों में मुख्यमंत्री के पद की मांग नहीं की है.’’ उन्होंने यहां कांग्रेस और राकांपा की चुनाव पूर्व के अपने छोटे सहयोगियों के साथ संयुक्त बैठक से पहले यहां यह बयान दिया. यह पूछे जाने पर कि क्या मुख्यमंत्री पद शिवसेना के पास पांच साल के लिए रहेगा, कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने कहा, ‘‘ऐसा हो सकता है. मुझे नहीं लगता कि (शिवसेना के अलावा) कोई और इस (पांच साल के कार्यकाल) पर जोर देगा.’’

इस बीच, ठाकरे ने कहा कि शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस अपनी आंतरिक बैठकें कर रही हैं और वे इस बारे में बाद में फैसला करेंगी कि उन्हें संयुक्त बैठक कब करनी है. कांग्रेस आज बाद में अपने विधायक दल के नेता का भी चयन करेगी. विधायक दल के नेता के चयन के लिए होने वाली बैठक में कांग्रेस महासचिवों मल्लिकार्जुन खडगे और के सी वेणुगोपाल के भी शामिल होने की उम्मीद है.

भाजपा और शिवसेना ने महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव मिलकर लड़ा था. इसमें भाजपा को 105 सीटें और शिवसेना को 56 सीटें मिली थीं लेकिन बाद में मुख्यमंत्री पद पर साझेदारी के मुद्दे पर दोनों दल अलग हो गए थे. अब सरकार गठन को लेकर शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस के बीच बातचीत चल रही है. महाराष्ट्र में 12 नवंबर से राष्ट्रपति शासन लगा हुआ है.