नई दिल्ली: दिल्ली के उपराज्यपाल (एलजी) कार्यालय में भूख हड़ताल पर बैठे उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया की हालत खराब होने के बाद उन्हें लोकनायक जयप्रकाश अस्पताल में भर्ती कराया गया है. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी है. केजरीवाल ने ट्वीट करते हुए लिखा, ”मनीष सिसोदिया को अस्पताल में शिफ्ट किया जा रहा है.” सिसोदिया का किटोन लेवल 7.4 पर पहुंच गया है जोकि रविवार को 6.4 था, सामान्य तौर पर यह 0 होता है. सिसोदिया पिछले 6 दिनों से अपनी मांग मनवाने के लिए भूख हड़ताल पर हैं.Also Read - Omicron in India: दिल्ली के लोक नायक अस्पताल में होगा Omicron संक्रमितों का इलाज

Also Read - AAP नेता राघव चड्ढा को मिला 'Most Stylish Politician' अवार्ड, तो सीएम केजरीवाल ने दिया यह रिएक्शन

Also Read - दिल्ली के कंस्ट्रक्शन मजदूरों को 5000 रुपये देगी केजरीवाल सरकार, जानें पूरी डिटेल

इससे पहले रविवार देर रात को सत्येंद्र जैन को भी अस्पताल में भर्ती कराया गया था, मनीष सिसोदिया के साथ सत्येंद्र जैन भी भूख हड़ताल पर बैठे थे जबकि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और गोपाल राय धरने पर बैठे हैं. आज केजरीवाल के धरने का 8वां दिन है और वो अभी भी एलजी निवास से बाहर निकलने के मूड़ में नहीं दिख रहे.

हाईकोर्ट का झटका

इससे पहले आज दिल्ली हाईकोर्ट ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और बाकी मंत्रियों द्वारा एलजी निवास में धरना देने पर सख्त टिप्पणी की. हाईकोर्ट ने पूछा कि केजरीवाल को एलजी ऑफिस में धरना करने की अनुमति किसने दी है? हाईकोर्ट ने कहा कि आप ऐसे किसी के घर में जबरदस्ती घुसकर धरना नहीं दे सकते. हाईकोर्ट ने कहा कि वो समझ नहीं पा रहे कि ये धरना है या हड़ताल?

केजरीवाल के धरने पर हाईकोर्ट सख्त, पूछा- किसकी अनुमति से एलजी हाउस में बैठे? जानिए अपडेट्स

आईएएस अधिकारियों का आरोप

दिल्ली आईएएस एसोसिएशन ने दिल्ली सरकार से उसके अधिकारियों को राजनीतिक फायदे के लिए इस्तेमाल नहीं करने को कहा और उनके दावे को खारिज किया कि वे हड़ताल पर हैं. आईएएस अधिकारियों ने सार्वजनिक रूप से आरोप लगाया कि राजनीतिक फायदे के लिए उन्हें निशाना बनाया जा रहा है. केजरीवाल के उपराज्यपाल के साथ टकराव के बीच एसोसिएशन ने कहा आप सरकार को अपना रूख बदलने की जरूरत है.

दिल्ली: राजनिवास में भूख हड़ताल पर बैठे सत्येंद्र जैन की तबीयत बिगड़ी, अस्पताल में भर्ती

केजरीवाल ने दिया भरोसा

केजरीवाल ने स्थिति संभालते हुए अधिकारियों की सुरक्षा का आश्वासन देते हुए उन्हें अपने परिवार का हिस्सा बताया. इस बीच, गतिरोध को देखते हुए गैर भाजपा शासन वाले चार राज्यों के मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से दखल देने और संकट के समाधान का अनुरोध किया.