नई दिल्ली। कांग्रेस प्रवक्ता मनीष तिवारी ने सोमवार को इस मांग का समर्थन किया किया कि इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन को हटाया जाना चाहिए. उन्होंने यह सुनिश्चित करने के लिए गंभीर प्रयास करने की जरूरत बताई कि 2019 के लोकसभा चुनाव में मतपत्रों का इस्तेमाल हो. उन्होंने कहा कि लोकतंत्र इतना बहुमूल्य है कि इसे प्रौद्योगिकी के भरोसे नहीं छोड़ा जा सकता.Also Read - आगरा में मृत सफाई कर्मचारी अरुण वाल्मीकि के परिवार से म‍िलीं प्रियंका गांधी, प्रशासन 10 लाख रुपए और एक सदस्य को नौकरी देगा

Also Read - Punjab: कांग्रेस विधायक से सवाल करना युवक को पड़ा भारी, हुआ बुरा हाल, वीडियो वायरल

उन्होंने ध्यान दिलाया कि कई देश वापस कागजी मतपत्र पर आ गए हैं. उन्होंने ईवीएम के बारे में एक गैर सरकारी संगठन द्वारा आयोजित एक परिसंवाद में कहा कि सही सोच रखने वाले सभी व्यक्तियों को, जो यह मानते हैं कि यदि कुछ लोग 2019 में (सत्ता में) नहीं आए तो लोकतंत्र बच जाएगा, यह सुनिश्चत करने के लिए गंभीर प्रयास करने चाहिएं कि 2019 के चुनाव मतपत्र के आधार पर हों. Also Read - UP: 25 लाख की चोरी के मामले में सफाईकर्मी की हिरासत में मौत पर हंगामा, आगरा जा रहीं प्र‍ियंका गांधी हिरासत में

माकपा के वरिष्ठ नेता नीलोत्पल बसु ने कहा कि कागजी मतपत्र की ओर लौटना चुनावी सुधार का अंग होना चाहिए जो कि देश के लिए जरूरत है. बता दें कि पिछले साल पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव के बाद कई विपक्षी दलों ने ईवीएम की विश्वसनीयता पर सवाल उठाए थे.

यह भी पढ़ें- गुजरात नगरपालिका: बीजेपी जीती लेकिन सीटें घटीं, जानिए किसे मिलीं कितनी सीटें

इसके बाद निर्वाचन आयोग ने ईवीएम में कथित छेड़छाड़ के आरोपों के मद्देनजर 12 मई को सर्वदलीय बैठक बुलाई थी. बैठक में सभी दलों को आश्वस्त किया गया था कि ईवीएम के साथ छेड़छाड़ नहीं की जा सकती.

भाषा इनपुट