नई दिल्ली: पीएम नरेंद्र मोदी मन की बात की. इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि देश में अर्थव्यवस्था का पहिया चल पड़ा है. जब मैंने पिछली बार मन की बात बोली थी, तो काफी कुछ बंद था, लेकिन अब ऐसा नहीं है. पीएम मोदी ने कहा कि अनलॉक1 के साथ हमें ज्यादा सतर्क रहने की ज़रूरत है. Also Read - लेह अस्पताल में जहां जवानों से मिले पीएम मोदी उसको लेकर उठे सवाल, सेना ने की सबकी बोलती बंद

– पीएम मोदी ने कहा कि देश के लोगों ने मिलकर कोरोना से लड़ाई लड़ी है. आगे भी लड़ेंगे. उन्होंने तमिलनाडु में सलून चलाने वाले एक शख्स का ज़िक्र करते हुए कहा कि उन्होंने बेटी की शादी के लिए जुटाए पांच लाख रुपये कोरोना से लड़ाई के लिए दान कर दिया. Also Read - 'सेवा ही संगठन' कार्यक्रम में बोले पीएम मोदी- तारीफ के हकदार हैं बिहार के भाजपा कार्यकर्ता

– इसी तरह से पंजाब के पठानकोट के रहने वाले दिव्यांग राजू ने पैसे जुटाए और दान किये. Also Read - चीनी ऐप बैन के बाद पीएम मोदी का अगला कदम, ऐप बनाने के लिए युवाओं को दिया खास चैलेंज

– कोरोना के प्रभाव से हमारी मन की बात भी अछूती नहीं रही है. पिछली बार जब मन की बात थी, तब ट्रेनें, बसें और वायुसेवा बंद थी, इस बार बहुत कुछ खुलचुका है. श्रमिक स्पेशल ट्रेनें शुरू हैं, अन्य पैसेंजर ट्रेनें भी चलने लगी हैं, तमाम सावधानियों के साथ हवाई सेवा भी शुरू हुई.

– अर्थव्यवस्था में गति आने लगी है. लेकिन सतर्कता बरतनी अभी जरूरी है. कोरोना के खिलाफ बहुत मजबूती से देशवासी लड़ाई लड़ रहे हैं.

– दुनिया के मुकाबले हम देख रहे हैं कि अन्य देशों के मुकाबले भारत में स्थिति उतनी खतरनाक नहीं हुई. यह देशवासियों के संकल्प का परिणाम है.

– यह पूरी मुहिम People Driven है. देशवासियों की संकल्प शक्ति के साथ साथ उनकी सेवा शक्ति भी अतुलनीय है.

– सेवा हमारी जीवन पद्धति है. दूसरों की सेवा में लगे व्यक्ति के जीवन में कभी तनाव या डिप्रेशन नहीं होता.

– तमाम डॉक्टर, नर्स, पुलिसकर्मी, सफाईकर्मी ऐसी ही सेवाभाव से डटे हुए हैं.

– पढ़ाई के क्षेत्र में शिक्षकों और छात्रों ने मिलकर कई इनोवेशन किए हैं. ऑनलाइन क्लासेज, वीडियो क्लासेज इसमें खास हैं. पूरी दुनिया समेत हमारे देश में भी कोई ऐसा वर्ग नहीं है, जो परेशानी में न हों. लेकिन संकट की इस घड़ी में सबसे ज्यादा तकलीफ गरीबों और श्रमिकों को उठाना पड़ रहा है. उनकी पीड़ा दूर करने के लिए सबलोग पूरे प्रयास कर रहे हैं.

– रेलवे के कर्मचारी भी कोरोना वॉरियर्स की भांति इन श्रमिकों को ट्रेनों के माध्यम से उनके गंतव्य तक पहुंचा रहे हैं

– मेक इन इंडिया को बढ़ावा देने के लिए लोग योगदान और कोशिश कर रहे हैं.

– कोरोना जैसे समय में लोग हरिद्वार से लेकर हॉलीवुड तक योग कर रहे हैं.

– हमें हालात से सीखने की ज़रूरत है.

– केंद्र सरकार ने ऐसे फैसले लिए हैं, उनके गाँव में काफी संभावनाएं बन गई हैं. ग्रामीण भारत आत्मनिर्भर होता तो ये हालत न होती.

– पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि देश के कुछ हिस्से एक छोटे से किड़े टिड्डे का सामना कर रहे हैं. पीएम ने कहा कि टिड्डी दल की घटना ने हमे यह सिखा दिया कि एक छोटा सा कीड़ा हमारे लिए कितनी बड़ी परेशानियां खड़ी कर सकता है.