नई दिल्ली: पीएम मोदी आज एक बार फिर से देश की जनता से मन की बात कार्यक्रम से जुड़े हैं. पीएम मोदी 65वीं बर रेडियो के कार्यक्रम के जरिए जनता को संदेश दे रहे हैं. माना जा रहा है कि पीएम इस बार अपने संदेश में लॉकडाउन 5.0 को लेकर बात करेंगे. पीएम मोदी ने ुन् कहा कि जब इससे पहले बात की थी तो सब कुछ बंद था लेकिन अब बहुत कुछ बदल गया है.Also Read - PM Modi's UP Visit: सिद्धार्थनगर और काशी में पीएम मोदी के भाषण की 10 बड़ी बातें

कोरोना के प्रभाव से हमारी मन की बात भी अछूती नहीं रही है. पिछली बार जब मन की बात थी, तब ट्रेनें, बसें और वायुसेवा बंद थी, इस बार बहुत कुछ खुलचुका है. श्रमिक स्पेशल ट्रेनें शुरू हैं, अन्य पैसेंजर ट्रेनें भी चलने लगी हैं, तमाम सावधानियों के साथ हवाई सेवा भी शुरू हुई. अर्थव्यवस्था में गति आने लगी है. लेकिन सतर्कता बरतनी अभी जरूरी है. कोरोना के खिलाफ बहुत मजबूती से देशवासी लड़ाई लड़ रहे हैं. Also Read - पूरे देश में जितने COVID-19 केस आए, उससे कहीं ज्यादा BMC ने मास्क नहीं लगाने वालों से कमाए

Also Read - Coronavirus: चीन में फिर डराने लगी कोरोना महामारी, सहमी नजरों से देख रही दुनिया

पीएम ने देश में बहुत ऐसे लोग हैं जो इस लड़ाई में देश की सेवा में लगे हुए हैं. उन्होंने कहा कि इस संकट की  घड़ी में हजारों कहानियां सामने आ रही हैं. पीएम ने कहा कि अगर जरूरी न हो तो घर से बाहर न निकलें उन्होंने कहा अपने घर पर ही रहें.

दुनिया के मुकाबले हम देख रहे हैं कि अन्य देशों के मुकाबले भारत में स्थिति उतनी खतरनाक नहीं हुई. यह देशवासियों के संकल्प का परिणाम है. यह पूरी मुहिम People Driven है. देशवासियों की संकल्प शक्ति के साथ साथ उनकी सेवा शक्ति भी अतुलनीय है. पीएम ने कहा कि इस संकट की घड़ी में इनोवेशन ने मेरे दिल को बहुत छुआ है

बता दें अनलॉक 1 में सभी इलाकों को खोलने और ना खोलने का फैसला चरणबद्ध तरीके से लिया जाएगा. जिसके लिए तीन चरण निर्धारित किए गए हैं. दिल्ली-एनसीआर में मेट्रो सेवा पर निर्णय तीसरे चरण में लिया जाएगा. जो कि पूरी तरह से यहां कि स्थितियों पर निर्भर होगा. फिलहाल, यहां आने-जाने के लिए लोगों को ऑटो रिक्शा, पर्सनल वाहन या फिर कैब सुविधा का ही ऑप्शन होगा. यही नहीं, जिम और स्वीमिंग पूल जैसी जगहों को खोलने का भी फैसला अभी नहीं लिया गया है.

पीएम ने कहा कि यदि हमारे गावं कस्बे और जिले आत्मनिर्भर होते तो शायद इतनी बड़ी समस्या आज देश के सामने नहीं होती. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि लेकिन अंधेरे से ही रोशनी की किरण नजर आती है . उन्होंने कहा कि मुझे विश्वास है कि आत्म निर्भर भारत देश को एक नई उचाई पर ले जाएगी.

पीएम ने कहा कि करोड़ों लोग गरीब परिवार लोग यही सोचते हैं कि अगर कभी बीमार हो गए तो क्या होगा. उन्होंने कहा कि ऐसे ही लोगों की चिंता को दूर करने के लिए आयूष मंत्रालय ने आयुष्मान भारत की योजना को शुरू किया गया था. पीएम ने कहा कि अब तक एक करोड़ लोगों को इसका लाभ मिला. उन्होंने कहा कि अब देश का कोई भी गरीब देश में इस योजना के तहत कहीं भी उत्तम इलाज करा सकता है.

पीएम ने कहा कि इन एक करोड़ लोगों में अस्सी प्रतिशत लोग ग्रामीण इलाके से थीं. पीएम मोदी ने आयुष्मान भारत योजना में जुड़े देश के नागिरकों और डॉक्टर्स को शुभकामनाएं दीं.

पीएम नरेंद्र मोदी ने अपने संदेश में कहा कि जहां एक ओर देश कोरोना के प्रकोप से परेशान है वहीं देश के कुछ राज्य तूफान की परेशानी से भी परेशान है. उन्होंने कहा कि उड़ीसा और पश्चिम बंगाल को भारी नुकसान हुआ है. उन्होंने कहा कि इस तूफान से पश्चिम बंगाल के लोगों ने जिस हिम्मत से सामना किया है वह सच में तारीफ के काबिल है. उन्होंने कहा कि हमें इनका साथ देने की जरूरत है ताकि वे फिर से खड़े हो सकें.

पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि देश के कुछ हिस्से एक छोटे से किड़े टिड्डे का सामना कर रहे हैं. पीएम ने कहा कि टिड्डी दल की घटना ने हमे यह सिखा दिया कि एक छोटा सा कीड़ा हमारे लिए कितनी बड़ी परेशानियां खड़ी कर सकता है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि हम सब ने कोरोना की लड़ाई को एक साथ मिलकर लड़ी है और देश को संकट से उबारा है लेकिन हमें अब किसी तरह की लापर वाही नहीं बरतनी है. उन्होंने कहा कि जब भी बाहर निकलें मास्क पहन कर निकलें.और लगातार हाथ धोते रहें.