नई दिल्लीः प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज इस साल चौथी बार मन की बात कार्यक्रम से देश की जनता से जुड़े हैं. पीएम मोदी की मन की बात का यह 64वां संस्करण है. पीएम ने आज के कार्यक्रम के लिए जनता से सुझाव मांगे थे और इसके बारे में जानकारी उन्होंने देश को 12 अप्रैल को दी थी. पीएम ने कहा कि इस कार्यक्रम के लिए बहुत से सुझाव मुझे दिए गए हैं. Also Read - लॉकडाउन: अमित शाह ने सभी मुख्यमंत्रियों को फोन कर पूछा, अब आगे क्या?

पीएम मोदी ने कहा कि बहुत सी ऐसी बाते हैं जिन पर हमारा ध्यान नहीं जाता है. भारत में कोरोा के खिलाफ लड़ाई आप लड़ रही है और साथ में प्रशासन भी यह लड़ाई लड़ रहाहै हम भाग्यशाली है कि देश का हर एक नागरिक इस लड़ाई का नेतृत्व कर रहा है Also Read - स्मृति ईरानी ने कहा- कांग्रेस देश की चुनौतियों से फायदा उठाने की कोशिश में है, वो यही कर सकती है

पीएम मोदी ने कहा कि केंद्र सरकार डॉक्टर्स की सुरक्षा के लिए अध्यादेश लाई है जिसके बाद उन्हें नुकसान पहुंचाने वालों को कठोर दंड दिया जाएगा. उन्होंने  कहा कि यह फैसला बहुत जरूरी है. उन्होंने कहा कि ऐसे सभीलोग जो देश को कोरोना मुक्त बनाने के लिए उनके लिए यह कदम आवश्यक था.

जब पूरा विश्व इस महामारी से जूझ रहा है तब पूरा भारत एक साथ है और भविष्य में इस बात की जरूर चर्चा होगी. पीएम ने कहा कि हम भाग्यशाली है कि देश का हर एक नागरिक इस लड़ाई का नेतृत्व कर रहा है.

पीएन ने कहा कि आज देश में ऐसी फोटो भी आ रही हैं जहां लोग सफाई कर्मी का सम्मान कर रहे ये पहले बहुत या न के बराबर देखने को मिलता था. उन्होंने कहा कि इस संकट के बाद अब पुलिस के प्रति भी लोगों का नजरिया बदला है. अब लोग भावनात्म रूप से लोग पुलिस से जुड रहे हैं.

पीएम मोदी नेकहा कि भारत ने अपनी संस्कृति को ध्यान रखकर दूसरे देशों की मदद की. उन्होंने कहा कि अगर भारत ऐसा नहीं करता तो भारत को कोई बुरा नहीं कहता लेकिन यह भारत कि छवि के विपरीत है. उन्होंने कहा कि दुनिया भारत को थैक्यूं इंडिया बोल रही है यह सुनकर गर्व प्रतीत होता है. पीएम मोदी ने कहा कि इस संकट ने हमारे अंदर भी कई तरह के बदलाव किए. हमारी कार्यशैली में बहुत से परिवर्तन आए हैं. उन्होंने मास्क के बारे में कहा कि अब मास्क हमारे जीवन का एक प्रमुख अंग बन गया है. उन्होंने कहा कि मास्क लगाने वाला हर वयक्ति बीमार नहीं होता. उन्होंने कहा कि अब मास्क सभ्य समाज का प्रतीक बनेगा

प्रधानमंत्री ने कहा कि अब हमारे समाज में भी कई तरह के परिवर्तन आए हैं. अब हर जगह थूकने की आदत खत्म हो गई है. उन्होेने कहा कि यह एक गंभीर समस्या थी लेकिन पहले खत्म होने का नाम नहीं ले रही थी, लेकिन अब यह पूरी तरह से समाप्त हो जाएगी.

पीएम ने कहा कि मैं सभी सामुदायिक लीडर्स के प्रति आभार वयक्त करता हूं जो लोग लोगों को कोरोना के प्रति जागरूक कर रहे हैं. उन्होंने कहा इस कोरोना संकट ने त्योहारों को मनाने का तरीका ही बदल दिया है. पीएम मोदी ने कहा कि हर समुदाय के लोगों ने त्योहारों को अपने ही घर में मनाया.

पीएम ने कहा कि मैं पूरे देश से आग्रह करता हूं कि हमें आत्मविश्वास से बचना है कि हमारे शहर में कोरोना नहीं फैल सकता . उन्होंने कहा कि दुनिया से हमें सबक लेना चाहिए. पीएम ने कहा कि हमारे यहां तो कहा जाता है कि सावधानी हटी दुर्घटना घटी. उन्होने कहा कि हमें हमेशा दो गज दूरी बहुत जरूरी है.