नई दिल्ली: ‘मैन वर्सेज वाइल्ड’ कार्यक्रम की विशेष कड़ी देखने के बाद बहुत से लोगों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से सवाल किया कि शो के संचालक बेयर ग्रिल्स ने उनसे हिंदी में कैसे बात की? इस राज पर से मोदी ने खुद रविवार को अपने मासिक रेडियो कार्यक्रम ‘मन की बात’ में खुलासा किया. उन्होंने बताया कि जिम कॉर्बेट राष्ट्रीय उद्यान में दोनों के बीच बातचीत के लिए तकनीक का विस्तृत इस्तेमाल किया गया.

 

प्रधानमंत्री ने कहा कि बेयर ग्रिल्स ने कान में एक बेतार उपकरण लगाया था, जब मैं बोलता था तो उपकरण तुरंत उसे अंग्रेजी में अनुवाद कर देता. मैं उनसे हिंदी में बात करता था और वह उसे अंग्रेजी में सुनते थे… इस प्रकार संवाद बहुत आसान हो गया. यह तकनीक का अद्भुत पहलू है. उन्होंने बताया कि कुछ संकोच के साथ लोग उनसे पूछते कि ग्रिल्स हिंदी कैसे समझ रहे थे. मोदी ने कहा कि लोग बड़ी उत्सुकता से पूछते कि क्या उस कड़ी को बाद में संपादित किया गया था? इस कड़ी के लिए कितनी बार शूटिंग की गई थी? लेकिन इसमें कोई राज नहीं है. कई लोगों के दिमाग में यह सवाल है इसलिए मैं इस राज पर से पर्दा उठाता हूं. वास्तव में इसमें कोई राज नहीं है. वास्तविकता यह है कि बेयर ग्रिल्स से बातचीत के लिए तकनीक का विस्तृत इस्तेमाल किया गया.

मन की बात: पीएम मोदी ने 2 अक्टूबर से प्लास्टिक के खिलाफ जन-आंदोलन का आह्वान किया

उन्होंने कहा कि कार्यक्रम के प्रसारण के बाद बड़ी संख्या में लोग जिम कॉर्बेट राष्ट्रीय उद्यान को लेकर चर्चा कर रहे हैं. मोदी ने कहा कि आपको प्रकृति और वन्य जीवों से जुड़े स्थलों की यात्रा करनी चाहिए, जैसे मैंने पहले कहा था और मैं जोर देता हूं कि आपको अपनी जिंदगी में पूर्वोत्तर की यात्रा करनी चाहिए. गौरतलब है कि प्रधानमंत्री मोदी कार्यक्रम के दौरान बेयर ग्रिल्स के साथ जंगल के बीच से पैदल चले और नदी में छोटी नाव से नौकाविहार किया ताकि उनके दिल के करीबी मुद्दों, पर्यावरण संरक्षण और स्वच्छता को प्रोत्साहित किया जा सके.