सांपला (रोहतक): हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा कि अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधानों को रद्द किये जाने को मिले व्यापक समर्थन से राज्य में जाति के बंधन टूट गए हैं और विधानसभा चुनावों से पहले सभी वर्गों में भाजपा की लोकप्रियता बढ़ी है. उन्होंने कहा कि राष्ट्रवाद हरियाणा के लोगों की रगों में है क्योंकि यहां के हर गांव से लोग सशस्त्र बलों में हैं और इस भावना से भाजपा प्रदेश में कांग्रेस और अन्य विपक्षी दलों द्वारा प्रसारित की गई जातिवाद की राजनीति को शिकस्त देगी.

खट्टर ने कहा कि जब किसी शहीद का पार्थिव शरीर वापस गांव आता है तो कोई उसकी जाति नहीं पूछता…आगामी विधानसभा चुनावों के दौरान राष्ट्रवाद निर्णायक तत्व होगा. इसने जातिवाद की राजनीति को तस्वीर से बाहर कर दिया है. हरियाणा, झारखंड और महाराष्ट्र में इसी साल विधानसभा चुनाव होने हैं. अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधानों को रद्द किये जाने को मील का पत्थर बताते हुए खट्टर ने अपनी राज्यव्यापी रथयात्रा के दौरान भाषा को दिये गए एक साक्षात्कार में कहा कि अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधानों को रद्द किये जाने के बाद भाजपा और उसके नेतृत्व की सराहना हरियाणा और देश भर में बढ़ी है.

उन्होंने कहा कि समाज के सभी वर्गों के लोग सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की इस साहसी कदम के लिये सराहना कर रहे हैं. उन्होंने कहा, यहां तक कि पार्टी के आलोचक रहे लोग भी इस मुद्दे पर उसके साथ खड़े हैं. विपक्ष पर निशाना साधते हुए खट्टर ने कहा कि यहां तक कि राष्ट्रीय हित के मुद्दे पर भी विपक्ष राजनीति करना चाहता है और वे पुरजोर तरीके से अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधानों को रद्द किये जाने का विरोध कर रहे हैं, जो कांग्रेस और अन्य विपक्षी दलों का असली चेहरा दिखाता है.

उन्होंने कहा कि इस ‘राष्ट्रवादी कदम’ पर कांग्रेस के विरोध ने इसे चर्चा का विषय बना दिया और देश की आम जनता खासकर हरियाणा के लोग भी इसकी चर्चा कर रहे हैं. हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा समेत कुछ कांग्रेसी नेताओं द्वारा पार्टी लाइन से अलग हटकर मोदी के फैसले की तारीफ किये जाने के बारे में पूछने पर खट्टर ने कहा कि विपक्ष भी बहती गंगा में हाथ धोने की कोशिश कर रहा है.

खट्टर ने हरियाणा में आगामी विधानसभा चुनावों को भाजपा की राष्ट्रवाद पर आधारित ईमानदार राजनीति और विपक्ष की जाति आधारित राजनीति के बीच सीधी टक्कर करार दिया. मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस और इनेलो में विभाजन का फायदा भाजपा को मिलने से जुड़े सवाल के बारे में पूछने पर मुख्यमंत्री ने कहा कि लोग अफरा-तफरी से ज्यादा स्थायित्व पसंद करते हैं. राज्य में विधानसभा चुनावों में पार्टी की जीत की संभावनाओं के बारे में पूछे जाने पर खट्टर ने कहा कि भाजपा कार्यकर्ताओं ने 90 सदस्यीय विधानसभा में 75 से ज्यादा सीटें जीतने का लक्ष्य रखा है हाल में हुए लोकसभा चुनावों में पार्टी के प्रदर्शन को देखते हुए, इस लक्ष्य को हासिल किया जा सकता है.