करनाल (हरियाणा): हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष को भाजपा में शामिल करने की किसी भी संभावना से शनिवार को इनकार कर दिया. तवंर ने शनिवार को ही कांग्रेस की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दिया है. खट्टर ने विपक्ष की आलोचना करते हुए कहा कि टिकट आवंटन में तवंर के आरोपों ने पार्टी को बेनकाब कर दिया.

उन्होंने कहा कि सिर्फ उन लोगों को भाजपा में शामिल किया जाएगा जिनका ‘अतीत साफ-सुथरा’ हो और उन पर कोई ‘धब्बा’ नहीं हो. खट्टर ने यहां पत्रकारों से कहा कि हम उन्हें (तवंर) को (भाजपा में) प्रवेश नहीं देंगे. भाजपा द्वारा उन्हें पार्टी में शामिल होने का आमंत्रण मिलने की तवंर की कथित टिप्पणी के बारे में किए गए सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि यह पूरी तरह से गलत है. खट्टर ने कहा कि अगर भाजपा ने उन्हें (तवंर) को आमंत्रित किया होता तो, वह अब तक पार्टी में आ गए होते.

हरियाणा में बढ़ी कांग्रेस-भाजपा की मुश्किलें, इन सीटों पर बागियों ने निर्दलीय चुनाव लड़ने का लिया फैसला

गौरतलब है कि तवंर ने शनिवार को कांग्रेस की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है. इससे 21 अक्टूबर को होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले सबसे पुरानी पार्टी को झटका लगा है. पूर्व सांसद ने ट्विटर पर अपने इस्तीफे का ऐलान किया और कांग्रेस प्रमुख सोनिया के नाम लिखे चार पन्नों वाले त्याग पत्र सोशल मीडिया साइट पर पोस्ट कर दिया. खट्टर ने दावा किया कि कांग्रेस में बिना पैसे के कुछ भी काम नहीं होता है. पूर्व प्रदेश अध्यक्ष (तवंर) ने ऐसे आरोप लगाए हैं. मैं कहूंगा कि कांग्रेस बेनकाब हो गई है.

Haryana Assembly Election 2019: कांग्रेस को बड़ा झटका, प्रदेश इकाई के पूर्व अध्यक्ष अशोक तंवर ने दिया इस्तीफा

मुख्यमंत्री ने कहा कि यह पहला मौका नहीं है जब कांग्रेस में टिकट बंटवारे में भ्रष्टाचार के आरोप लगे हैं. खट्टर ने कहा कि (कांग्रेस में) पहले भी यह होता रहा है. अब लोग और नेता समझ गए हैं कि उन्हें ऐसी पार्टी में नहीं रहना चाहिए. उनके बहुत सारे लोग हमसे संपर्क कर रहे हैं और हम कह रहे हैं कि हम सिर्फ उन्हें लेंगे जिनका अतीत साफ हो और जिनपर कोई आरोप नहीं हो.