पणजी: गोवा के मंत्री विजय सरदेसाई ने शनिवार को मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर से भेंट की और कहा कि उनका स्वास्थ्य बिगड़ा है लेकिन स्थिर बना हुआ है. सरदेसाई गोवा के पांच विधायकों के साथ पर्रिकर के निजी आवास पर उससे मिलने पहुंचे. पर्रिकर से मिलने पहुंचे सभी विधायक राज्य की भाजपा नीत सरकार के सहयोगी हैं. Also Read - TMC सांसद नुसरत जहां ने भाजपा को बताया दंगा कराने वाला, मुसलमानों को कहा- उल्टी गिनती शुरू..

डोना पौला स्थित पर्रिकर के निजी आवास से निकलते हुए सरदेसाई ने संवाददाताओं से कहा कि मुख्यमंत्री का स्वास्थ्य बिगड़ा है, लेकिन स्थिर है. उन्होंने कहा, जब कैंसर का पता चला था तो मुख्यमंत्री ने पद छोड़ने की इच्छा जताई थी, उस वक्त हमने स्थाई समाधान और स्थिरता की मांग की थी. अब उनका स्वास्थ्य बिगड़ा है, लेकिन हम उनके साथ हैं. उनका स्वास्थ्य स्थिर है. मुझे उनकी बीमारी के स्तर का ज्ञान नहीं है. सरदेसाई ने कहा कि वह जीवनरक्षण प्रणाली पर नहीं हैं. मुझे नहीं पता कि मेडिकल में इस अवस्था के लिए क्या कहेंगे. मुख्यमंत्री कार्यालय का कहना है कि उनकी हालत स्थिर है, इसलिए हम मान रहे हैं कि वह स्थिर हैं. Also Read - Army Day 2021: BJP ने सेना दिवस के अवसर पर साझा किया बेहतरीन वीडियो, दिखा जवानों का पराक्रम

मंत्री ने कहा- कोई उम्मीद नजर नहीं आती
वहीं, गोवा के मंत्री मिचेल लोबो ने कहा कि जब तक पर्रिकर हैं, तब तक कोई दूसरा सीएम नहीं हो सकता है. उन्होंने कहा कि वह वाकई बेहद बीमार हैं. डॉक्टर उन्हें देख रहे हैं लेकिन ये नहीं कह रहे हैं कि वह स्वस्थ होंगे. मंत्री ने कहा कि हम दुआ कर रहे हैं कि वह (पर्रिकर) जल्द ठीक हो जाएँ, लेकिन कोई उम्मीद नजर नहीं आ रही है. वह बेहद बीमार हैं. अगर उन्हें कुछ हुआ तो नया सीएम भी बीजेपी का ही होगा. Also Read - West Bengal Assembly Election 2021: बंगाल में पाला बदलने की होड़, TMC के 41 विधायक तो BJP के 7 सांसद कर सकते हैं बगावत

गोवा: कांग्रेस ने सरकार बनाने का दावा किया पेश, कहा- हमारे MLA ज्यादा, BJP के पास बहुमत नहीं

कांग्रेस ने सरकार बनाने का दावा किया है पेश

बता दें कि कांग्रेस ने गोवा में शनिवार को सरकार बनाने का दावा पेश किया. पार्टी ने दावा किया है कि भाजपा विधायक फ्रांसिस डिसूजा के निधन के बाद मनोहर पर्रिकर सरकार ने विधानसभा में अपना बहुमत खो दिया है. गोवा की राज्यपाल मृदुला सिन्हा को लिखे एक पत्र में विपक्ष के नेता चंद्रकांत कावलेकर ने सरकार बनाने का दावा पेश किया और भाजपा के नेतृत्व वाली सरकार को बर्खास्त किए जाने की मांग की.

भाजपा विधायक फ्रांसिस डिसूजा के निधन और दो विधायकों सुभाष शिरोडकर तथा दयानंद सोप्ते के इस्तीफे और विधायक फ्रांसिस डिसूजा के निधन के बाद 40 सदस्यीय विधानसभा की क्षमता अब घटकर 37 रह गई है. इस समय कांग्रेस के 14 विधायक हैं. भाजपा के विधायकों की संख्या 13 है.