नई दिल्ली: दिल्ली भाजपा के अध्यक्ष मनोज तिवारी ने राजधानी में भी राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) तैयार कराने की मांग दोहराते हुए शनिवार को कहा कि वह जल्द ही केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात कर इसके लिये दबाव बनाएंगे. तिवारी ने यह बात शनिवार को असम में एनआरसी की अंतिम सूची जारी होने के बाद कही.

 

तिवारी ने कहा कि आपराधिक गतिविधियों” में शामिल बांग्लादेशियों और रोहिंग्याओं समेत अवैध आप्रवासियों की “बड़ी संख्या” में मौजूदगी के चलते दिल्ली में हालात “खतरनाक” हैं. तिवारी ने इस मुद्दे को लेकर पिछले साल अगस्त और नवंबर में उस समय गृह मंत्री रहे राजनाथ सिंह को पत्र लिखे थे. भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि यह एक बहुत ही अनिश्चित स्थिति है जिस पर तत्काल ध्यान देने की आवश्यकता है. मैं जल्द ही गृह मंत्री अमित शाह से मिलकर उनसे अनुरोध करूंगा कि राष्ट्रीय राजधानी में भी एनआरसी तैयार कराई जाए.

एनआरसी में नहीं जिन 19 लाख लोगों के नाम, ये भेजे जाएंगे जेल या घोषित होंगे विदेशी, जानिए

तिवारी ने कहा कि मेरा दृढ़ विश्वास है कि दिल्ली में अवैध प्रवासी स्थानीय लोगों को उनके अधिकारों और अवसरों से वंचित कर रहे हैं. यहां तक कि मैं एक बार शहर के मुसलमानों से मिला था जिन्होंने मुझे बताया कि दिल्ली में भी एनआरसी तैयार कराई जानी चाहिये क्योंकि अवैध आप्रवासियों की आपराधिक गतिविधियों की वजह से उनके समुदाय की छवि खराब हुई है.

असम: क्या है NRC जिससे बाहर हो गए 19 लाख लोग, 8 बिंदुओं से जानिए क्यों पड़ी इसकी जरूरत