बेंगलुरु: कोविड-19 के चलते लागू लॉकडाउन के करीब दो महीने बाद सोमवार को बेंगलुरु के केम्पेगौड़ा इंटरनेशनल एयरपोर्ट से उड़ान सेवाएं बहाल हो गईं. करीब 176 यात्रियों को लेकर एयर एशिया की पहली उड़ान रांची के लिए रवाना हुईं. हालांकि, कई उड़ानें रद्द भी की गई हैं.Also Read - Delhi, Mumbai में घटी कोरोना की रफ्तार, कर्नाटक में बड़ी संख्‍या में आए केस, देखें अपने राज्य का अपडेट

सूत्रों ने बताया कि कुछ राज्यों ने उड़ानों की संख्या पर प्रतिबंध लगाए हैं, कुछ ने यात्रियों के पहुंचने पर उन्हें पृथक-वास में रहने के दिशानिर्देश जारी किए हैं. इस कारण यहां आने-जाने वाली कई उड़ानें रद्द भी हुई हैं. खबरों के मुताबिक बेंगलुरू से अन्य शहरों को जाने वाली करीब 30 उड़ानें रद्द की गई. Also Read - कांग्रेस नेता Digvijaya Singh कोरोना वायरस से संक्रमित, खुद ट्वीट कर दी जानकारी

Also Read - सावधान! स्मार्टफोन से भी फैल सकता है कोरोनावायरस, ऐसे करें सैनिटाइज और इन बातों को रखें खास ध्यान

सूत्रों के मुताबिक, रांची के लिए एयर एशिया के एक विमान ने सुबह करीब सवा पांच बजे उड़ान भरी, जबकि पहली उड़ान का आगमन सुबह करीब आठ बजे चेन्नई से हुआ. उसमें 113 यात्री सवार थे.

अधिकारियों ने बताया कि शहर के हवाईअड्डे से आज करीब 60 विमानों के उड़ान भरने और 54 के यहां पहुंचने की उम्मीद है. उनके मुताबिक कुछ यात्रियों ने आखिरी समय में टिकट रद्द कर दिया, जैसा कि बेंगलुरु से हैदराबाद उड़ान के मामले में हुआ.

बेलगावी में साम्ब्रा हवाईअड्डा और मंगलुरू हवाईअड्डे से भी कुछ उड़ानें रद्द हुई है. शहर के हवाईअड्डे पर सोमवार को पहुंचने वाले यात्रियों में दिल्ली से अकेले आया पांच साल का एक लड़का भी शामिल है. उसकी मां तीन महीने बाद अपने बेटे को देखने के लिए व्याकुल नजर आई.

कर्नाटक सरकार ने कहा है कि जो लोग कोविड-19 से अधिक प्रभावित राज्यों – महाराष्ट्र, गुजरात, दिल्ली, तमिलनाडु, राजस्थान और मध्य प्रदेश से आएंगे उन्हें7दिन के लिए संस्थागत पृथक केंद्र में रहना होगा जिसका खर्च यात्रियों को उठाना होगा. कोविड जांच रिपोर्ट में संक्रमित नहीं पाए जाने पर उन्हें अगले सात दिन के लिए घर में पृथक-वास में रहना होगा. जो लोग कम प्रभावित क्षेत्रों से आएंगे उन्हें 14 दिन घर में पृथक-वास में रहना होगा.

गर्भवती महिलाओं, 10 साल से कम उम्र के बच्चों और 80 साल या उससे अधिक उम्र के बुजुर्गों और गंभीर रूप से बीमार मरीजों को एक अटेंडेंट के साथ जांच रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद घर में पृथक-वास में रहने की अनुमति होगी.

  • खास मामलों में जहां कारोबारी जरूरी काम से आ रहे हों, उन्हें पृथक-वास की जरूरत के बिना जाने की अनुमति होगी, लेकिन उन्हें आईसीएमआर स्वीकृत लैबोरेटरी से कोविड-19 जांच रिपोर्ट लानी होगी और यह यात्रा की तिथि से दो दिन पहले की नहीं होनी चाहिए.
  •  यात्रियों और स्टाफ को कोविड-19 प्रसार के जोखिम से बचाने के प्रयास में, बेंगलुरु अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डा लिमिटेड (बीआईएएल) ने पार्किग से लेकर विमान में सवार होने तक ऐसी व्यवस्था की है जिससे यात्री किसी चीज के संपर्क में ना आएं.
  • यात्रियों और स्टाफ को कोविड-19 प्रसार के जोखिम से बचाने के प्रयास में, बेंगलुरु अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डा लिमिटेड (बीआईएएल) ने पार्किग से लेकर विमान में सवार होने तक ऐसी व्यवस्था की है, जिससे यात्री किसी चीज के संपर्क में ना आएं.
  • कर्नाटक सरकार ने कहा है कि जो लोग कोविड-19 से अधिक प्रभावित राज्यों- महाराष्ट्र, गुजरात, दिल्ली, तमिलनाडु, राजस्थान और मध्य प्रदेश से आएंगे उन्हें सात दिन के लिए संस्थागत पृथक केंद्र में रहना होगा जिसका खर्च यात्रियों को उठाना होगा.
  •  कोविड जांच रिपोर्ट में संक्रमित नहीं पाए जाने पर उन्हें अगले सात दिन के लिए घर में पृथक-वास में रहना होगा
  •  जो लोग कम प्रभावित क्षेत्रों से आएंगे उन्हें 14 दिन घर में पृथक-वास में रहना होगा
  •  गर्भवती महिलाओं, 10 साल से कम उम्र के बच्चों और 80 साल या उससे अधिक उम्र के बुजुर्गों और गंभीर रूप से बीमार मरीजों को एक अटेंडेंट के साथ जांच रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद घर में पृथक-वास में रहने की अनुमति होगी.
  •  खास मामलों में जहां कारोबारी जरूरी काम से आ रहे हों, उन्हें पृथक-वास की जरूरत के बिना जाने की अनुमति होगी लेकिन उन्हें आईसीएमआर स्वीकृत लैबोरेटरी से कोविड-19 जांच रिपोर्ट लानी होगी और यह यात्रा की तिथि से दो दिन पहले की नहीं होनी चाहिए.