नई दिल्ली. केलाश मानसरोवर यात्रा के लिए निकलेग लगभग 1000 यात्री नेपाल में भारी बारिश और खराब मौसम की वजह से फंस गए हैं. काठमांडू से 423 किमी दूर सिमिकोट रीजन में भारतीय दूतावास के अधिकारी पूरी स्थिति पर नजर बनाए हुए हैं. बताया जा रहा है कि इसमें 290 यात्री कर्नाटक के हैं. विदेश मंत्रालय के सूत्रों के मुताबिक, सिमिकोट में 525 यात्री फंसे हैं. वहीं 550 हिलसा में और अन्य 500 तिबत के दूसरी तरफ फंसे हैं.

दूसरी तरफ कर्नाटक सरकार ने हिमालयी राष्ट्र में भारतीय दूतावास को सहायता उपलब्ध कराने लिए कहा है. राज्य आपात अभियान केंद्र, राजस्व विभाग (आपदा प्रबंधन) ने एक ट्वीट में कहा कि कैलाश मानसरोवर यात्रा पर कर्नाटक के लगभग 290 तीर्थयात्री हिमालयी क्षेत्र में भारी बारिश की वजह से नेपाल के सिमीकोट में फंस गये हैं. अधिकारियों ने बाद में कहा कि वे लोग सुरक्षित हैं और वे लोग उनके साथ लगातार संपर्क में हैं.

सीएम ने ये कहा
मुख्यमंत्री एच डी कुमारस्वामी ने नई दिल्ली में कर्नाटक भवन के रेजिडेंट आयुक्त को तीर्थयात्रियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए अतिशीघ्र हरसंभव कदम उठाने का निर्देश दिया है. आयुक्त ने काठमांडो में भारतीय दूतावास और नेपाल सरकार के अधिकारियों के साथ चर्चाएं की. उसमें कहा गया कि दूतावास के अधिकारी तुरंत जरुरी उपाय कर रहे हैं।

मिल रही है स्वास्थ्य मदद
नेपाल के सिमिकोट में भारतीय दूतावास के अधिकारी वहां फंसे बुजुर्ग तिर्थयात्रियों को जरूरी स्वास्थ्य संबंधी मदद कर रहे हैं. खराब मौसम की वजह से रास्ते भी प्रभावित हो गए हैं और उन्हें सुरक्षित जगह पहुंचाने में कठिनाई हो रही है.