नई दिल्ली. पंजाब में किसानों के विरोध-प्रदर्शन के बीच बुधवार को 38 ट्रेनों को रद्द किया गया है जबकि अमृतसर और दिल्ली के बीच चलने वाली लगभग सभी ट्रेनें बाधित हुई हैं. अमृतसर में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक परमाल सिंह ने बताया कि पंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय के दखल के बाद आंदोलन को वापस ले लिया गया है.

रद्द हुई ट्रेनों में अमृतसर-नयी दिल्ली एक्सप्रेस, अमृतसर-चंडीगढ़ एक्सप्रेस, हरिद्वार-अमृतसर जनशताब्दी एक्सप्रेस और नयी दिल्ली जालंधर सिटी इंटर सिटी एक्सप्रेस शामिल हैं. अधिकारियों ने बताया कि आठ ट्रेनों को अंतिम गंतव्य से पहले ही खत्म कर दिया गया जबकि 11 ट्रेनों के मार्ग में बदलाव किया गया है. पंजाब के अमृतसर में किसान अपनी मांगों को लेकर रेल की पटरियों पर बैठे हुए थे। वे पूर्ण कर्ज माफी, जमीन की नीलामी और किसानों की गिरफ्तारी को रोकने और 15 फीसदी ब्याज के साथ गन्ने की फसल की कीमत का भुगतान करने की मांग कर रहे हैं.

पटरी पर बैठकर प्रदर्शन
अमृतसर-दिल्ली रेल मार्ग की पटरियों पर बैठकर प्रदर्शन कर रहे किसानों को हटाने के लिए मंगलवार को पंजाब एवं हरियाणा उच्च न्यायालय में एक याचिका दायर की गई थी. अदालत ने पंजाब, केंद्र और किसान संगठन किसान मजदूर संघर्ष समिति को नोटिस जारी कर बुधवार को पेश होने को कहा. पंजाब के महा अधिवक्ता अतुल नंदा ने अदालत को सूचित किया था कि करीब 85 ट्रेनों को रद्द किया गया या उनके मार्ग में परिवर्तन किया गया है, जिससे तकरीबन 85,000 यात्री प्रभावित हुए हैं.