देश की राजधानी दिल्ली में फंड मामले को लेकर तीनों नगर निगमों के मेयर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ( Arvind Kejriwal) के आवास के बाहर धरने पर बैठ गए हैं. तीनों नगर निगमों के महापौर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से मुलाकात की मांग कर रहे हैं. इसके साथ-साथ वह फंड जारी करने की बात भी मांग कर रहे हैं. SDMC, NDMC और EDMC के महापौर नगर निगम के कर्मचारियों के वेतन का भुगतान नहीं करने पर विरोध कर रहे हैं. मीडिया से बात करते हुए उन्होंने कहा, ‘या तो हमें मिलने बुलाएं या हम विरोध में यहां बैठेंगे. हम यहां से नहीं गए.Also Read - Punjab विधानसभा चुनाव पर Zee Opinion Poll की खास बातें, किस पार्टी को कितनी सीटें? कौन सबसे पसंदीदा सीएम, जानें सबकुछ

Also Read - Zee Opinion Poll 2022: पंजाब में त्रिशंकु विधानसभा के आसार! AAP हो सकती है सबसे बड़ी पार्टी, SAD को बड़ा फायदा

बता दें कि नगर निगमों के सैकड़ों डॉक्टर, नर्स, स्वच्छता कार्यकर्ता, शिक्षक और अन्य कर्मचारी लंबे समय से वेतन न मिलने का हर रोज विरोध कर रहे हैं. 25 अक्टूबर को एनडीएमसी मेडिकल कॉलेज और हिंदू राव अस्पताल के रेजिडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन ने वेतन न मिलने के खिलाफ अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल की थी. Also Read - Pubjab Opinion Poll: चरणजीत चन्नी, सिद्धू, भगवंत मान, सुखबीर बादल या अमरिंदर? पंजाब में कौन है लोगों का सबसे पसंदीदा सीएम

हिंदू राव अस्पताल के रेजिडेंट डॉक्टर वेतन न देने के खिलाफ कुछ हफ्तों से विरोध प्रदर्शन कर रहे थे. कई डॉक्टर कई महीनों से लंबित अपने बकाया की मांग को लेकर अस्पताल के बाहर बैठे रहे और दिल्ली सरकार के खिलाफ नारेबाजी की.

इससे पहले सितंबर में उत्तरी दिल्ली नगर निगम (NDMC) ने केंद्रीय वित्त और गृह मंत्रालयों से भी आग्रह किया था कि वे अपने कर्मचारियों के वेतन और पेंशन बकाया राशि में मदद करने के लिए हस्तक्षेप करें. एनडीएमसी के तहत आने वाले पांच अस्पतालों में काम करने वाले स्वास्थ्य कर्मियों में से किसी को भी कम से कम तीन महीने का बकाया नहीं दिया गया है.