नई दिल्ली. बुधवार की सुबह से भारत पाकिस्तान सीमा पर शुरू तनाव पर विदेश मंत्रालय ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान के एयरफोर्स ने भारत के सैन्य ठिकानों पर हमले की कोशिश की. भारतीय वायुसेना ने जवाबी कार्रवाई की है. इसमें पाकिस्तान का एक लड़ाकू विमान मार गिराया गया है. हमारा एक पायलट भी गायब है और पाकिस्तान ने इसे गिरफ्तार करने का दावा किया है. इसके साथ ही हमारा एक विमान भी क्रैश हुआ है. Also Read - Indian Air Force Airmen Recruitment 2021: 12वीं पास उम्मीदवारों के लिए भारतीय वायुसेना में निकली वैकेंसी, इस दिन से करें आवेदन

बता दें कि इससे पहले पाकिस्तानी सेना की ओर से जारी 46 सेकंड के एक वीडियो में आंखों पर पट्टी बांधे एक व्यक्ति नजर आ रहा है और दावा किया गया है कि यह व्यक्ति भारतीय वायुसेना के विंग कमांडर अभिनंदन हैं. वीडियो में व्यक्ति यह कहता नजर आ रहा है, मैं भारतीय वायुसेना का एक अधिकारी हूं. मेरा सर्विस नंबर 27981 है. हालांकि वीडियो की सत्यता की पुष्टि नहीं की जा सकी है. Also Read - Indian Air Force Recruitment 2021: भारतीय वायु सेना में अधिकारी के पदों पर आवेदन करने की आज है अंतिम तिथि, जल्द करें अप्लाई

पाकिस्तान की तरफ से दावा
पाकिस्तानी सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ गफूर ने दावा किया कि भारतीय वायुसेना के दो पायलटों को गिरफ्तार किया गया है. एक पायलट घायल हुआ है और उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया है जबकि दूसरे को कोई नुकसान नहीं हुआ है. प्रवक्ता ने गिरफ्तार पायलटों से मिली सामग्री और दस्तावेज भी दिखाये हैं. एक पत्रकार वार्ता को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि एक विमान पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में गिरा जबकि एक जम्मू कश्मीरा में गिरा है. Also Read - Indian Air Force Recruitment 2021: भारतीय वायु सेना में ऑफिसर बनने का सुनहरा मौका, AFCAT 2021 के लिए आवेदन करने की कल है अंतिम डेट, जल्द करें अप्लाई 

नियंत्रण रेखा पार की
उन्होंने कहा, ‘‘आज सुबह पाकिस्तानी हवाई क्षेत्र में मौजूद पीएएफ (पाकिस्तान वायुसेना) के लड़ाकू विमानों ने नियंत्रण रेखा के पार छह स्थानों को निशाना बनाया.’’ उन्होंने कहा, ‘‘हमारे पायलटों ने उन छह जगहों को घेर लिया और हमने खुली जगहों पर निशाना साधा.’’ उन्होंने कहा कि पीएएफ ने यह फैसला किया था कि वह सैन्य अड्डों को निशाना नहीं बनायेगी.उन्होंने कहा कि कुछ लक्ष्य भीमबर गली और नारन इलाके में थे जहां कुछ ही दूरी पर रसद आपूर्ति डिपो था.