नई दिल्ली: केरल के कोझीकोड और मलप्पुरम जिलों से चमगादड़ों से एकत्रित नमूनों की जांच में उनमें निपाह विषाणु नहीं मिला है. यह बात एक केंद्रीय मेडिकल टीम ने स्वास्थ्य मंत्रालय को शनिवार को सौंपी गई एक रिपोर्ट में कही है. कोझीकोड और मलप्पुरम जिलों में निपाह विषाणु के संक्रमण से 12 व्यक्तियों की मौत हो गई थी.Also Read - Karnataka: बेंगलुरू में ढाई साल की बच्ची कमरे में 5 दिनों तक रही, जहां लटकी मिलीं 5 डेडबॉडी

Also Read - Char Dham Yatra Guidelines: कल से शुरू हो रही है चारधाम यात्रा, दर्शन के लिए जरूरी है रजिस्ट्रेशन और ई-पास, जानिए डिटेल्स

स्वास्थ्य मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा कि रिपोर्ट में निपाह विषाणु फैलने में चमगादड़ और सूअर के मूल स्रोत होने से इनकार किया गया है. मेडिकल टीम अब निपाह विषाणु फैलने के अन्य संभावित कारणों का पता लगा रही है. कुल 21 नमूने एकत्रित किए गए थे जिसमें से सात चमगादड़, दो सूअर, एक गोवंश और एक बकरी या भेड़ से था. इन नमूनों को भोपाल स्थित राष्ट्रीय उच्च सुरक्षा पशुरोग संस्थान और पुणे स्थित राष्ट्रीय विषाणु विज्ञान संस्थान भेजा गया था. Also Read - इस राज्य में सैकड़ों मंदिर तोड़े जाने लेकर BJP पर साधा निशाना, कांग्रेस और JDS का हमला

निपाह वायरस का खौफ: मेरठ के अस्पतालों में काम करने वाली केरल की नर्सों को घर जाने से रोका, छुट्टी कैंसिल

अधिकारी ने कहा, ‘‘इन नमूनों में उन चमगादड़ों के नमूने भी शामिल थे जो कि केरल में पेराम्बरा के उस घर के कुएं में मिले थे जहां शुरुआती मौत की सूचना मिली थी. इन नमूनों में निपाह विषाणु नहीं पाये गए हैं.’’ ऐसे लोग जिनके निपाह विषाणु से संक्रमित होने का संदेह था, उनके नमूनों में भी यह विषाणु नहीं पाया गया है. उन्होंने कहा, ‘‘इसका मतलब है कि इस विषाणु से संक्रमित होने वाले केवल 15 पुष्ट मामले हैं जिसमें से 12 ऐसे हैं जिनकी मृत्यु हो चुकी है. तीन व्यक्तियों का इलाज चल रहा है.’’

हिमाचल प्रदेश में मृत मिले चमगादड़ों के नमूने पुणे भेजे गए थे, उनमें भी यह विषाणु नहीं मिला है. इसके साथ ही हैदराबाद के संदिग्ध मामलों के दो नमूनों में भी यह विषाणु नहीं मिले हैं. स्वास्थ्य मंत्रालय ने लोगों से आग्रह किया है कि वे घबराएं नहीं. मंत्रालय ने कहा है कि निपाह विषाणु का फैलना केरल तक सीमित है. मंत्रालय ने आम जनता और स्वास्थ्य देखभाल सुविधा मुहैया कराने वालों को बचाव उपाय करने की सलाह दी है.

NIPAH वायरस: मरीजों के परिवारवाले पड़े अलग-थलग, स्‍वास्‍थ्‍य कर्मचारी भी नहीं जाते उनके करीब

राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र निदेशक के नेतृत्व में एक केंद्रीय टीम केरल में स्थिति पर निरंतर नजर रखे हुए है. स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि सम्पर्क का पता लगाने की रणनीति सफल रही है. उसने कहा कि यह पता चला है कि जो भी मामले सामने आये हैं उनमें शामिल व्यक्ति उस व्यक्ति या उसके परिवार के सीधे या अप्रत्यक्ष सम्पर्क में आया जिसकी इसके चलते पहली मौत हुई थी.