नई दिल्ली: भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के महासचिवों की बुधवार को पार्टी मुख्यालय में बैठक हुई, जिसमें 18 नवंबर से शुरू हो रहे संसद के शीतकालीन सत्र, महाराष्ट्र में सियासी उठापटक, हरियाणा में कैबिनेट विस्तार और झारखंड के चुनाव सहित कई मुद्दों पर चर्चा हुई.Also Read - त्रिपुरा नगर निकाय चुनाव में सत्तारूढ़ भाजपा का शानदार प्रदर्शन, सभी 51 सीटें जीतीं; नड्डा ने CM बिप्लब को दी बधाई

Also Read - विपक्षी दलों ने संविधान और बाबासाहेब का अपमान किया है, जनता इनको माफ नहीं करेगी: जेपी नड्डा

कार्यकारी अध्यक्ष जे.पी. नड्डा की अध्यक्षता में शाम साढ़े चार बजे से पार्टी मुख्यालय पर बैठक शुरू हुई. बैठक में महासचिव(संगठन) बीएल संतोष, महासचिव पी. मुरलीधर राव, भूपेंद्र यादव, अरुण सिंह, अनिल जैन, सह महासचिव शिव प्रकाश और वी. सतीश मौजूद रहे. Also Read - UP Polls 2022: यूपी फतह के लिए BJP की खास रणनीति, जेपी नड्डा, अमित शाह और राजनाथ सिंह को मिली यह जिम्मेदारी

महाराष्ट्र की राजनीतिक हलचल पर अमित शाह ने तोड़ी चुप्पी, कहा- हमने नहीं किया विश्वासघात

पार्टी सूत्रों के मुताबिक, इस बैठक में गांधी संकल्प यात्रा की प्रगति के बारे में भी चर्चा हुई, और पार्टी सांसदों से इसकी शीघ्र रिपोर्ट लेने की बात कही गई. इसके अलावा 18 नवंबर से शुरू हो रहे संसद सत्र को लेकर पार्टी की तैयारियों पर विचार-विमर्श हुआ. संसद सत्र में संभावित बिल, विपक्ष की ओर से बहस के लिए उछाले जाने वाले मुद्दों पर भी रणनीति बनाने की बात कही गई.

इसके साथ ही बैठक में मौजूदा समय में चल रहे कई राज्यों के संगठनात्मक चुनाव के साथ अयोध्या पर आए सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद राजनीतिक हालत पर भी महासचिवों की नड्डा ने राय ली. बाहर रहने के कारण इस बैठक में सरोज पांडेय, कैलाश विजयवर्गीय और राम माधव भाग नहीं ले सके.