नई दिल्ली. पुलवामा अटैक के 12 दिन के अंदर ही भारतीय सेना की कार्रवाई के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई में कैबिनेट कमेटी की एक मीटिंग हो रही है. 7 लोक कल्याण मार्ग पर आयोजित इस मीटिंग में वायुसेना की कार्रवाई और उसके बाद की रणनीति पर चर्चा हो रही है. बता दें कि सेना की कार्रवाई के बाद राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने पीएम नरेंद्र मोदी से बात करते हुए पूरी जानकारी दी थी. Also Read - चीन से तनाव: रक्षामंत्री ने तीनों सेनाओं के प्रमुखों और Chief of Defence Staff की मीटिंग की

पाकिस्तान में भारतीय वायुसेना के हमले के बाद मंगलवार की सुबह प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के आवास पर सुरक्षा संबंधी कैबिनेट समिति की बैठक हो रही है. वित्त मंत्री अरुण जेटली, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, गृह मंत्री राजनाथ सिंह और रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण बैठक में मौजूद हैं.

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल, प्रधानमंत्री कार्यालय के अन्य शीर्ष अधिकारी और सुरक्षा विभाग से जुड़े तमाम आला अधिकारी बैठक में मौजूद हैं. सूत्रों ने बताया कि ऐसा माना जा रहा है कि भारत ने मंगलवार को तड़के पाकिस्तान के भीतरी हिस्सों में हवाई हमला कर आतंकवादी ठिकानों को नष्ट किया है.

सूत्रों ने बताया कि भारतीय वायुसेना के विभिन्न लड़ाकू विमानों ने खैबर पख्तूनख्वा प्रांत के बालाकोट में पाकिस्तान स्थित आतंकवादी समूहों के कई शिविरों को सफलतापूर्वक नष्ट कर दिया.

पुलवामा अटैक के बाद पीएम नरेंद्र मोदी ने अपनी रैली में बोला था कि हमारे जवानों की शहादत का अंजाम पाकिस्तान को भुगतना पड़ेगा. उन्होंने कहा था कि सेना को कह दिया गया है कि वे दिन, तारीख, जगह और तरीका तय कर लें और आतंकियों को अपने हिसाब से जवाब दें. सरकार और देश की 130 करोड़ जनता उनके साथ है. इसके बाद से ही कयास लगाए जा रहे थे कि सेना सर्जिकल स्ट्राइक जैसी कार्रवाई एक बार पाकिस्तान सीमा के अंदर घुसकर कर सकती है.

बता दें कि मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, भारतीय वायुसेना की 12 ‘मिराज 2000’ (Mirage 2000) फाइटर प्लेन ने सोमवार-मंगलवार की दरमियानी रात लगभग 3 बजे LOC क्रॉस करके पाकिस्तानी सीमा में दाखिल हो ताबड़तोड़ कार्रवाई करते हुए 1000 से ज्यादा बम गिराए. इसमें जैश-ए-मोहम्मद का अल्फा-3 कंट्रोल रूम भी तबाह हुआ है. बताया जा रहा है कि भारतीय वायुसेना ने तीन जगह कार्रवाई की है.