नई दिल्ली/ शिलांग :  मेघालय विधानसभा चुनाव के बीच कांग्रेस नेता शशि थरूर ने एक विवादस्‍पद बयान दिया है, वहीं बीजेपी ने इस बयान को लेकर भारी नाराजगी जताते हुए कांग्रेस से माफी की मांग की. शिलांग में पहुंचे कांग्रेस नेता शशि थरूर ने शुक्रवार को कहा, ‘एनपीपी कह रही है कि वे हर जगह स्‍वतंत्र लड़ रहे हैं, लेकिन मेघालय में वे बीजेपी के सहयोगी हैं और स्‍वयं को बीजेपी की पूंछ बना लिया है और जब भी कुत्‍ता भूकता है तो वह दुम हिलाने लगती है.’

भाजपा प्रवक्‍ता नलिन कोहली ने थरूर के बयान पर शनिवार को नाराजगी जताते हुए कहा, ‘हम शशि थरूर के द्वारा राजनीतिक दलों के लिए उपयोग की गई भाषा से शॉक्‍ड हैं, जिसमें उन्‍होंने एक क्षेत्रीय दल को पूछ हिलाने वाले दुम और बीजेपी को कुत्‍ता कहा है. हम शशि थरूर और कांग्रेस से माफी की मांग करते हैं.’

 

बीजेपी नेता कोहली ने कहा कि शशि थरूर की राजनीतिक कुशलता की समानता पालतू कुत्‍ते की पीढ़ी से हो सकती है और ये भी हो सकता है कि सीनियर राजनीतिक फंक्‍शनरीज में कुछ समय दूध पिलाने के लिए चुनना पड़ा होगा. इसका मतलब यह नहीं है कि आप राजनीतिक दलों को इतना नीचा दिखाते हुए कुत्‍ता कह दें और मतदाताओं की बेइज्‍जती करें.

 We’re shocked with the language used by Shashi Tharoor for political parties in terms of referring to a regional party as the wagging tail of a dog & by implication referring to the BJP literally as a dog. We demand an apology from Shashi Tharoor & Congress: Nalin Kohli, BJP pic.twitter.com/k1eTEYpjWc

मेघालय में बीजेपी को सत्‍ता से दूर करने कांग्रेस पर्दे के पीछे कर रही बातचीत
कांग्रेस नगालैंड में बीजेपी-एनडीपीपी गठबंधन को राज्‍य में ‘सत्ता से दूर रखने के मकसद से चुनाव बाद गठबंधन के लिए नगा पीपुल्स फ्रंट (एनपीएफ) के साथ पर्दे के पीछे बातचीत कर रही है. राज्‍य में सत्‍ता के समीकरण जुटा रही कांग्रेस के बारे में सूत्रों ने यह जानकारी दी है. कांग्रेस के एक नेता ने पहचान उजागर ना करने की शर्त पर बताया कि कांग्रेस एनपीएफ के साथ चुनाव पूर्व गठबंधन नहीं कर पाई, लेकिन भाजपा-एनडीपीपी को सत्ता से बाहर रखने के लिए चुनाव बाद गठबंधन की खातिर एनपीएफ के साथ पर्दे के पीछे बातचीत चल रही है.

कांग्रेस नेता ने कहा कि कांग्रेस तीन मार्च को चुनाव नतीजा आने के बाद जरूरत पड़ने पर एनपीपी से संपर्क करेगी. बता दें कि सत्तारूढ़ एनपीएफ राज्य की 60 विधानसभा सीटों में से 58 पर चुनाव लड़ रही है.नगालैंड डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी (एनडीपीपी) और बीजेपी गठबंधन बनकार चुनाव लड़ रहे हैं, वहीं, कांग्रेस ने 27 फरवरी को होने वाले चुनाव के लिए 23 उम्मीदवारों को टिकट दिए हैं. हालांकि, पांच उम्मीदवारों के नाम वापस लेने के बाद उसके उम्मीदवारों की असल संख्या 18 हो गई है.

इसी बीच विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस के पर्यवेक्षक प्रवीण डावर ने कहा कि पूर्वोत्तर के राज्य में एक धर्मनिरपेक्ष सरकार सत्ता में आएगी. उन्होंने दावा किया कि कांग्रेस 10 से 12 सीटें जीतने में सफल रहेगी. (इनपुट- एजेंसी)