शिलांग. देश में इस समय पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव हो रहे हैं. वहीं, राम मंदिर निर्माण को लेकर साधु-संतों की सभा से माहौल में गर्मी छाई हुई है. एक तरफ चुनाव प्रचार में लगे विभिन्न दलों के नेता एक-दूसरे पर बयानों की बौछार कर रहे हैं, तो वहीं दूसरी ओर राम मंदिर को लेकर भी पिछले दिनों काफी तीखे बयान सुनने को मिले. लेकिन इस बीच मुंबई में 2008 में हुए आतंकी हमलों की बरसी को लेकर सोमवार को जब पूरा देश इस घटना में शहीद हुए सुरक्षाबल के जवानों को याद कर रहा था, तो मेघालय के राज्यपाल तथागत रॉय ने कुछ ऐसे शब्दों में अपनी ‘श्रद्धांजलि’ व्यक्त की कि वह विवादित हो गया. दरअसल, मेघालय के राज्यपाल तथागत रॉय ने सोमवार को 26/11 आतंकवादी हमले की 10वीं बरसी पर एक विवादास्पद ट्वीट किया है, जो चर्चा का विषय बन गया है. उन्होंने लिखा कि ‘पाकिस्तान प्रायोजित 2008 के हमले में कोई मुसलमान नहीं मारा गया था.’ उन्होंने हालांकि तुरंत ही अपना ट्वीट हटा दिया और इस पर खेद प्रकट किया.

मेघालय के राज्यपाल बनने से पहले भारतीय जनता पार्टी की पश्चिम बंगाल इकाई के प्रमुख रह चुके तथागत रॉय ने अपने ट्वीट में लिखा था, “पाक-प्रायोजित मासूमों (मुसलमानों को छोड़कर) के जनसंहार की 10वीं बरसी. क्या किसी को याद है कि हमने पाकिस्तान के साथ अपने राजनयिक संबंधों को क्यों कम नहीं किया है, (या संबंध को तोड़े जाएं या युद्ध के लिए तैयार रहें).” इसके बाद उन्होंने अपना ट्वीट हटा दिया और कहा कि वह तथ्यों को लेकर गलत थे. उन्होंने कहा, “मुझे 26/11 हमलों में पाकिस्तानी आतंकवादियों द्वारा मुस्लिमों को छोड़ देने की गलत जानकारी मिली थी. असल में इस हमले में मुस्लिमों ने भी अपनी जान गंवाई. यह तथ्यों से जुड़ी एक गलती थी जिसकेमैं माफी मांगता हूं. यह ट्वीट डिलीट कर दिया गया है.”