ग्रेटर नोएडा: ग्रेटर नोएडा वेस्ट (नोएडा एक्सटेंशन) में रहने वालों को सौगात मिलने जा रही है. इन दोनों ही जगहों के लिए मेट्रो प्रोजेक्ट के फेज-2 के तहत मेट्रो लाइन पहुंचाने को मंजूरी दे दी गई है. इस प्रोजेक्ट के तहत नोएडा सेक्टर 71 से ग्रेटर नोएडा वेस्ट होते हुए नॉलेज पार्क-5 तक मेट्रो चलाने का फैसला किया गया है. अब तक ये इलाके मेट्रो से नहीं जुड़े हुए थे. Also Read - Coronavirus: 22 मार्च की आधी रात से 31 मार्च तक बंद रहेंगी सभी यात्री ट्रेनें

दो चरणों में पूरा होगा मेट्रो प्रोजेक्ट
ग्रेटर नोएडा वेस्ट में मेट्रो प्रोजेक्ट दूसरे चरण में शामिल किया गया है. मंगलवार को ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण बोर्ड की बैठक हुई. इसी बैठक में इन फैसलों पर मुहर लगा दी गई. बताया जा रहा है कि बैठक में और भी कई अहम् प्रस्ताव रखे गए. ग्रेटर नोएडा औद्योगिक विकास प्राधिकरण के सीईओ ने जानकारी देते हुए बताया कि मेट्रो प्रोजेक्ट फेज-2 को चरणों में बांटा गया है. दोनों चरणों की कुल लागत 2602 करोड़ रुपए होगी. जबकि पहले चरण में 1521 करोड़ रुपए खर्च होंगे. बताया जा रहा है कि पहले चरण में सेक्टर-71 से ग्रेनो वेस्ट के सेक्टर-दो तक मेट्रो प्रस्तावित की गई है. इसका ट्रैक 9.155 किलोमीटर लंबा होगा. दूसरे चरण में नॉलेज पार्क फाइव तक मेट्रो का विस्तार होगा. इसके बनने पर कॉरिडोर की कुल लंबाई 14.958 किलोमीटर हो जाएगी. Also Read - Corona Virus: दिल्ली में कोरोना वायरस के पांचवें मामले की हुई पुष्टि, इटली से लौटा था व्यक्ति

इंदौर, भोपाल आगरा, कानपुर और मेरठ के मेट्रो ट्रेन प्रोजेक्ट को वित्त मंत्रालय की हरी झंडी Also Read - दिल्ली हिंसा के लिए कांग्रेस और आम आदमी पार्टी जिम्मेदारः प्रकाश जावड़ेकर

इन जगहों पर बनेंगे स्टेशन
योजना के अनुसार पहला स्टेशन नोएडा सेक्टर-120 में बनेगा. इसके बाद सेक्टर-123, ग्रेनो वेस्ट का सेक्टर-4, सेक्टर-16बी के बाद सेक्टर दो आखिरी स्टेशन होगा. यह भी एलिवेटेड कॉरिडोर होगा जो सेंट्रल वर्ज पर बनेगा. बता दें कि ग्रेटर नोएडा वेस्ट (नोएडा एक्सटेंशन) अब तक मेट्रो से नहीं जुड़े हुए थे. राजधानी दिल्ली से सटे इस इलाके में लाखों अपार्टमेंट हैं. बड़ी संख्या में लोग रहते हैं. अब तक यहां के लोगों को अब तक दूसरे साधनों पर निर्भर रहना पड़ता था.