नई दिल्ली: गृह मंत्रालय ने चंडीगढ़ प्रशासन को दिल्ली की तरह सिख महिलाओं के लिए हेलमेट को वैकल्पिक बनाने की सलाह दी है. सिख निकायों ने मांग की थी कि सभी महिलाओं चाहे वे पगड़ी पहनती हों या नहीं हेलमेट पहनने से छूट दी जाए. इसके बाद चंडीगढ़ प्रशासन ने इस मामले में मंत्रालय से संपर्क किया था. प्रशासन की ओर से यह निर्देश ऐसे समय में सामने आया है जब पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट ने राज्य सरकार से पूछा था कि सभी सिख महिलाओं के लिए हेलमेट में छूट देने के क्या नियम हैं. Also Read - CBSE बोर्ड के छात्रों के लिए दिशानिर्देश जारी, नजदीकी विद्यालयों में जमा कराएं रिपोर्ट

गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया कि चंडीगढ़ के केंद्रशासित प्रशासन को यह सलाह दी गई है कि दिल्ली में मौजूदा चलन के अनुसार दोपहिए वाहन चलाने या उसके पीछे वाली सीट पर बैठी सिख महिलाओं के लिए हेलमेट पहनने के नियम को वैकल्पिक बनाया जा सकता है.पिछले हफ्ते गृह मंत्रालय ने इस मामले में छूट देने के लिए चंडीगढ़ प्रशासन को निर्देश जारी किए थे. Also Read - Video: पंजाब के सब-इंस्‍पेक्‍टर हरजीत सिंह के हाथ की हुई ऐसी रिकवरी, दिखा ये मूवमेंट

6 जुलाई 2018 को प्रशासन ने पगड़ी पहनने वाली महिलाओं को हेलमेट में छूट दिया था लेकिन सिखों से जुड़ी संस्थाएं सभी सिख महिलाओं के लिए हेलमेट में छूट की मांग कर रही थीं. इसके बाद चंडीगढ़ प्रशासन ने इस मामले से गृहमंत्रालय को अवगत कराया था और इस मामले में सलाह मांगी थी. Also Read - पंजाब: कोरोना वायरस से हारी 6 माह की बच्ची, एक माह के संघर्ष के बाद गई जान

शिरोमणि अकाली दल (एसएडी) के नेता और पंजाब के पूर्व उपमुख्यमंत्री सुखबीर सिंह बादल की अध्यक्षता में सिख निकायों ने केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात की थी. इसके बाद सभी सिख महिलाओं को हेलमेट पहनने से छूट दे दी गई. ने नियमों के मुताबिक चंडीगढ़ में सिख महिलाओं के लिए हेल्मेट पहनता वैकल्पिक हो गया है.