श्रीनगर: दक्षिण कश्मीर के कई जगहों से अगवा किए गए पुलिसकर्मियों के रिश्तेदारों को आतंकियों ने रिहा कर दिया है. आतंकियों ने गुरुवार रात कम से कम आठ ऐसे लोगों को अगवा कर लिया था जिनके परिजन जम्मू कश्मीर पुलिस में काम करते हैं. सूत्रों ने बताया कि अगवा किए गए सभी लोगों को छोड़ दिया गया है. हालांकि, एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि वे इसकी तफ्तीश कर रहे हैं कि वे लोग घर पहुंचे हैं या नहीं. अपुष्ट खबरों के मुताबिक पुलिसकर्मियों के 11 परिजनों को अगवा किया गया था. पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती और उमर अब्दुल्ला ने अपहरण की निंदा की है.Also Read - Amit Shah ने Pulwama terror attack में शहीद 40 CRPF जवानों को दी श्रद्धांजलि

Also Read - अमित शाह ने बुलेट प्रूफ ग्लास हटवाने के बाद दिया भाषण, पाक के बजाय, जम्मू-कश्मीर के युवाओं से बात करेंगे

डीजीसीए की रिपोर्ट, पायलटों की गलती से दुर्घटना के कगार पर पहुंचा था राहुल गांधी का प्लेन Also Read - गृह मंत्री अमित शाह ने आगे बढ़ाया अपना जम्मू-कश्मीर दौरा, पुलवामा में CRPF के साथ बिताएंगे रात

अधिकारियों ने बताया कि आतंकियों ने शोपियां, कुलगाम, अनंतनाग और अवंतीपुरा से कम से कम आठ लोगों को अगवा किया. पूर्व में पुलिस के एक प्रवक्ता ने कहा था, ‘दक्षिण कश्मीर में अपहरण की कुछ घटनाओं के बारे में पुलिस को पता चला है. हम ब्यौरे और हालात की पड़ताल कर रहे हैं.आतंकियों ने शोपियां जिले के त्रेंज इलाके से पुलिस उपाधीक्षक के भतीजे को अगवा कर लिया था. अधिकारियों ने बताया कि अदनान अहमद शाह (26) का गुरुवार रात आतंकियों ने उनके घर से अपहरण कर लिया था. यासिर भट के पिता अभी हज पर गए हैं. यासिर को गुरुवार रात अगवा कर लिया गया.अधिकारियों ने अन्य अपहरणों का ब्यौरा नहीं दिया. अब्दुल्ला ने कहा कि अपहरण की घटनाएं घाटी की चिंताजनक स्थिति को दिखा रही है.

विधि आयोग की सिफारिश, तलाक के बाद महिला को मिले संपत्ति में बराबर का हिस्सा

आतंकी संगठन हिज्बुल मुजाहिदीन के कमांडर रियाज नाइकू ने पुलिसकर्मियों के परिजनों के अपहरण की जिम्मेदारी ली थी और पुलिस हिरासत में बंद आतंकवादियों के परिजनों को तीन दिन के भीतर रिहा करने की मांग की थी.अपहरण की जिम्मेदारी लेने से संबंधित जानकारी सोशल मीडिया पर चल रही एक ऑडियो क्लिप में कही गई थी. पुलिस अधिकारियों ने लगभग 12 मिनट की इस क्लिप की प्रामाणिकता की पुष्टि या इसे खरिज करने से इनकार किया था.

महंगाई की मार: डीजल पहली बार 70 रुपये प्रति लीटर के पार, एलपीजी सिलेंडर भी 1.49 रुपये महंगा हुआ

इस क्लिप में नाइकू यह कहता सुनाई देता है, ‘हम इसमें आपके परिवारों को शामिल नहीं करना चाहते. हमने आपके परिजनों को इसलिए उठाया, ताकि आपको महसूस हो सके कि हमारी मांओं पर उस समय क्या गुजरती है जब आप उनके निर्दोष बच्चों को गिरफ्तार करते हो. क्लिप में कहा गया, हमने आपके परिजनों का इसलिए अपहरण किया, ताकि तुम जान सको कि हम आप तक पहुंच सकते हैं. इस बार हमने उन्हें पूरी गरिमा के साथ मुक्त किया है, लेकिन अगली बार यह नहीं होगा…हम उसी तरह काम करेंगे जैसे आप करेंगे.’

अर्थव्यवस्था को रफ्तार: पहली तिमाही में जीडीपी ग्रोथ रेट 8.2 प्रतिशत, दो साल में सबसे ज्यादा

स्वयंभू हिज्बुल कमांडर ने कहा कि यह आखिरी बार है जब वे उन्हें चेतावनी दे रहे हैं. तीन दिन के भीतर हमारे सभी परिजनों को रिहा कर दो. यदि तुमने इस समयसीमा के भीतर उन्हें रिहा नहीं किया तो तुम्हारे परिजन आगे और सुरक्षित नहीं रह पाएंगे.आतंकी संगठन के कमांडर ने कहा, ‘भारत आजादी की लड़ाई को कुचलने की अपनी रणनीति के तहत कश्मीरियों को भिड़ाने की कोशिश कर रहा है. दुर्भाग्य से, कश्मीर पुलिस के कर्मी इस साजिश का हिस्सा बन गए हैं.’ नाइकू ने कहा कि प्रत्येक अभियान में पुलिसकर्मी अग्रिम पंक्ति में होते हैं और मुठभेड़ के दौरान जब भी कोई मरता है तो वह कश्मीर पुलिस से होता है.