औरंगाबाद। औरंगाबाद नगर निगम में एक एमआईएम पार्षद को पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को श्रद्धांजलि देने के प्रस्ताव का विरोध करना महंगा पड़ गया. भाजपा पार्षदों ने उसकी जमकर धुनाई की. भाजपा पार्षदों ने गर निगम में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को श्रद्धांजलि देने के प्रस्ताव का विरोध करने पर मजलिस-ए-इत्तेहाद-उल मुसलिमीन (एमआईएम) के एक पार्षद के साथ मारपीट की. एक अधिकारी ने बताया कि यह घटना नगर निगम की आम बैठक में हुई. Also Read - महाराष्ट्र में बीजेपी-शिवसेना के लिए कितनी गंभीर है अंबेडकर-ओवैसी की चुनौती?

Also Read - भाजपा व एमआईएम दोनों ही 'नफरत की विचारधारा' को साझा करती हैं: राहुल गांधी

सैयद मतीन ने किया श्रद्धांजलि का विरोध Also Read - गणपति बप्पा मोरया' नारा लगाने पर MIM विधायक वारिस पठान को मांगनी पड़ी माफी

निकाय की बैठक शुरू होने पर भाजपा पार्षद राजू वैद्य ने वाजपेयी को श्रद्धांजलि देने का प्रस्ताव पेश किया. एमआईएम पार्षद सैयद मतीन ने इसका विरोध किया. इससे भाजपा के सदस्य नाराज हो गए और उन्होंने सदन में ही मतीन के साथ मारपीट की.

भाजपा पार्षदों द्वारा मतीन पर हमला और मारपीट का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया और कुछ टीवी चैनलों ने इसका प्रसारण भी किया. वीडियो में दिख रहा है कि निगम के सुरक्षा अधिकारी मतीन को बचाकर सदन से बाहर ले जा रहे हैं. उन्हें बाद में पास के एक अस्पताल ले जाया गया.

अमर हुए अटल, अंतिम यात्रा में जनसैलाब के साथ 5 किमी तक पैदल चले पीएम मोदी

भाजपा के एक पार्षद ने कहा कि एमआईएम सदस्य हंगामा करते रहे हैं और वह सदन में राष्ट्रीय गीत गाए जाने का भी विरोध कर चुके हैं. मतीन ने कहा कि वह (वाजपेयी को) श्रद्धांजलि दिए जाने के कदम का लोकतांत्रिक तरीके से विरोध कर रहे थे. लेकिन करीब एक दर्जन भाजपा पार्षदों ने उन पर हमला किया.

इस घटना के कुछ देर बाद ही एमआईएम के कथित समर्थकों ने एक स्थानीय भाजपा पदाधिकारी की कार को क्षतिग्रस्त कर दिया और ड्राइवर के साथ मारपीट की. भाजपा पार्षद प्रमोद राठौड़ ने मांग की कि वाजपेयी को श्रद्धांजलि दिए जाने का विरोध करने के लिए मतीन को नगर निकाय से निष्कासित कर दिया जाए.