इंदौर: मध्यप्रदेश के नगर विकास एवं आवास मंत्री जयवर्धन सिंह ने शनिवार को कहा कि राज्य सरकार के एक विधेयक पर प्रमुख विपक्षी दल भाजपा के दो विधायकों का समर्थन हासिल कर मुख्यमंत्री कमलनाथ ने साबित कर दिया है कि वह “सूबे के इकलौते शेर” हैं. जयवर्धन सिंह कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह के पुत्र हैं. सूबे की कांग्रेस सरकार के 33 वर्षीय कैबिनेट मंत्री ने यहां संवाददाताओं से कहा, “भाजपा के दो विधायक-नारायण त्रिपाठी और शरद कोल अपनी पार्टी (भाजपा) छोड़कर कांग्रेस के साथ इसलिये आये, क्योंकि उन्हें कमलनाथ के नेतृत्व में पूरा भरोसा है. वह मुख्यमंत्री की कार्यशैली से प्रभावित होकर हमारे पास आये हैं.”

अपने दो विधायकों के अप्रत्याशित तौर पर पाला बदलने से तिलमिलायी भाजपा के वरिष्ठ नेता और प्रदेश के पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्र ने एक हालिया बयान में कहा है कि “खेल कांग्रेस ने शुरू किया है. लेकिन इसे खत्म भाजपा करेगी.” इस बयान पर नगरीय विकास एवं आवास मंत्री ने कहा, “भाजपा के लोग चाहें, तो सपने देखते रहें, लेकिन कमलनाथ ने साबित कर दिया है कि पूरे मध्यप्रदेश में वही एकमात्र शेर हैं.” भाजपा के दो विधायकों के टूटने के बाद सूबे में तेज हुई सियासी सरगर्मियों के बारे में पूछे जाने पर सिंह ने कहा, “(भाजपा के दो विधायकों का समर्थन हासिल कर) हमने हाल ही में बहुत कुछ साबित किया है . आगे क्या होगा, इस पर मैं अभी कोई टिप्पणी नहीं करूंगा.”

मध्य प्रदेश: बच्चा चोर होने के शक में कांग्रेस नेताओं की ही पिटाई, ग्रामीणों पर मुकदमा दर्ज

गौरतलब है कि प्रदेश विधानसभा में बुधवार शाम दंड विधि (मध्य प्रदेश संशोधन) विधेयक 2019 के पक्ष में भाजपा के दो सदस्यों सहित कुल 122 विधायकों ने मतदान किया था. विधेयक को लेकर राज्य की कांग्रेस सरकार का समर्थन करने वाले भाजपा विधायक नारायण त्रिपाठी मैहर सीट से और शरद कोल ब्यौहारी सीट से विधायक हैं. मीडिया से बातचीत से पहले, नगरीय विकास एवं आवास मंत्री ने यहां “अक्षय जल संचय अभियान” का औपचारिक शुभारंभ किया. इस प्रदेशव्यापी अभियान के तहत खासकर वर्षा जल सहेजा जायेगा. इस कार्यक्रम में प्रदेश के करीब 90 निकायों के अधिकारी शामिल हुए.