नई दिल्ली: केंद्रीय पेट्रोलियम, प्राकृतिक गैस और इस्पात मंत्री धर्मेद्र प्रधान सोमवार से मंगोलिया के तीन दिवसीय दौरे पर जा रहे हैं जहां वह भारत के सहयोग से बन रही रिफाइनरी के लिए तैयार किए गए इन्फ्रास्ट्रक्चर के उद्घाटन समारोह में हिस्सा लेंगे. इस मौके पर मंगोलिया के साथ खनन, कोयला और रेलवे व अन्य क्षेत्रों में सहयोग को लेकर उनकी बातचीत हो सकती है.

 

प्रधान 7-9 अक्टूबर के दौरान मंगोलिया की यात्रा पर होंगे, जहां आठ अक्टूबर को वह भारत के सहयोग से बनाई जारी मंगोल रिफाइनरी के लिए तैयार कि गए इन्फ्रास्ट्रक्चर के उद्घाटन समारोह में हिस्सा लेंगे. इस यात्रा के दौरान प्रधान मंगोलिया के खनन व भारी उद्योग मंत्री से मिलकर रिफाइनरी का निर्माण शुरू करने की दिशा में रोडमैप तैयार करने के अलावा खनन, कोयला और रेलवे के क्षेत्र में सहयोग पर भी बातचीत करेंगे. पिछले महीने एक कार्यक्रम में प्रधान ने कहा था कि वह मंगोलिया से कोयला आयात करने की संभावनाओं पर विचार कर रहे हैं. उन्होंने कहा था कि मंगोलिया के पास कोयले का प्रचुर भंडार है और उसके कोयले का उपयोग चीन करता है, लेकिन मंगोलिया भारत को कोयला बेचना चाहता है.

प्रधान के साथ अधिकारियों और कारोबारियों का एक प्रतिनिधिमंडल भी मंगोलिया जा रहा है. उनका यह दौरा पिछले महीने भारत के राजकीय दौरे पर आए मंगोलिया के राष्ट्रपति खल्तमागीन बत्तुल्गा की यात्रा के बाद हो रहा है. मंगोलिया में भारत की मदद से 1.236 अरब डॉलर की लागत से रिफाइनरी बनाई जा रही है. इसकी स्वीकृति प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 2015 में मंगोलिया दौरे के दौरान दी गई थी. भारत की सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी इंजीनियर्स इंडिया लिमिटेड इस तेल रिफाइनरी के निर्माण में प्रोजेक्ट मैनेजमेंट कंसल्टेंट है.