नई दिल्लीः भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान पर ‘‘उकसाने वाली एवं गैर जिम्मेदाराना भाषा’’ का प्रयोग करने का आरोप लगाते हुए शुक्रवार को कहा कि ‘जेहाद’ का ऐलान करने संबंधी उनका बयान प्रधानमंत्री जैसे संवैधानिक पद के अनुरूप नहीं है. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘ संयुक्त राष्ट्र महासभा में भी पाकिस्तान के प्रधानमंत्री उकसाने वाला बयान दे चुके हैं और गैर जिम्मेदाराना भाषा का इस्तेमाल कर चुके हैं . हम इस तरह की बयानबाजी की निंदा करते हैं .’’

Dassault Rafale : भारत को मई 2020 में मिलेगी राफेल युद्धक विमानों की पहली खेप

उन्होंने कहा, ‘‘उन्हें (खान को) इसकी जानकारी नहीं है कि अंतरराष्ट्रीय संबंधों में आचार-व्यवहार कैसे होता है और इसके कारण कुछ ऐसा कह जाते हैं जिससे दुनिया भर में मजाक बनता है’’ कुमार ने कहा, ‘‘उन्होंने (इमरान खान) भारत के खिलाफ जेहाद का खुला आह्वान किया है . पाकिस्तान और पाकिस्तान के नेताओं की ओर से ऐसा उकसाने वाला बयान पहली बार नहीं आया है.’’ विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा, ‘‘हम पाकिस्तान और पाकिस्तान के नेताओं से ‘सामान्य पड़ोसी’ की तरह व्यवहार की उम्मीद करते हैं .’’ उन्होंने साथ ही कहा कि ऐसी उनसे अपेक्षा तो नहीं है किंतु ‘‘वे पड़ोसी हैं.’’

भ्रष्टाचार की शिकायतों के डर से फैसले लेने से नहीं हिचकिचाउंगा: राजनाथ सिंह

पाक के कब्जे वाले कश्मीर से सीमा की ओर कूच की रिपोर्ट पर एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि इस तरह की बात कहना, ‘‘ क्षेत्रीय सम्प्रभुता का उल्लंघन है और ऐसा बयान उस पद के काबिल नहीं है जिस पद पर वह (खान) बैठे हैं .’’ उन्होंने कहा कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ऐसा बयान तब दे रहें हैं जबकि वह उच्च संवैधानिक पद पर बैठें हैं. ’’ गौरतलब है कि ऐसी खबरें आ रही हैं कि भारत द्वारा जम्मू कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म किए जाने के विरोध में पाकिस्तान द्वारा सीमा की ओर मार्च की योजना बनाई जा रही है.