Fresh Guidelines for International Passengers: देश में इन दिनों कोरोना वायरस जमकर कहर बरसा रहा है. हर दिन हजारों की संख्या में कोरोना पॉजिटिव मरीज सामने आ रहे हैं, जिससे हर तरफ हंगामा मचा हुआ है. देश में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या 17 लाख के पार पहुंच चुकी है. ऐसे में केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने विदेशों से भारत आ रहे लोगों के लिए नए दिशा-निर्देश जारी किए हैं. अंतरराष्ट्रीय यात्रियों के लिए जारी की गई इस गाइडलाइन के मुताबिक, जो भी लोग विदेश से आ रहे हैं उन्हें अपने आने की जानकारी 72 घंटे पहले देनी होगी. केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी ये दिशा-निर्देश आठ अगस्त से लागू हो जाएंगे.Also Read - अंतर्राष्ट्रीय यात्री उड़ानों पर प्रतिबंध 30 सितंबर तक बढ़ा, घरेलू उड़ानें जारी

Now 7 Days Paid Institutional Quarantine Must For Every International Passengers Also Read - Delhi IGI Airport: अलकायदा ने भेजा धमकी भरा ई-मेल, हम आ रहे हैं IGI एयरपोर्ट को बम से उड़ा देंगे, High Alert जारी

नई गाइडलाइन के मुताबिक, जो भी यात्री विदेश से आ रहे हैं, उन्हें यात्रा समय से कम से कम 72 घंटे पहले नई दिल्ली एयरपोर्ट की वेबसाइट newdelhiairport.in पर एक सेल्फ डिक्लेरेशन फॉर्म भरना होगा. जिसमें उन्हें अपने स्वास्थ्य संबंधी स्टेटस की जानकारी देना होगा. साथ ही यात्रियों को पोर्टल को एक शपथपत्र भी देना होगा, कि वे 14 दिनों के क्वारंटाइन पीरियड का पालन करेंगे. Also Read - भारत ने 31 अगस्‍त तक इंटरनेशनल यात्री उड़ानों पर प्रतिबंध बढ़ाया, पढ़ें ये गाइडलाइंस

इस शपथपत्र के मुताबिक, यात्रियों को पहले के सात दिन किसी क्वारंटाइन सेंटर में रहना होगा, जहां उन्हें अपना खर्च वहन करना होगा. इसके बाद 7 दिन घर पर क्वारंटाइन रहना होगा.

केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी नए दिशा-निर्देश की मुख्य बातें-
– यात्रा के समय से कम से कम 72 घंटे पहले सेल्फ डिक्लेरेशन फॉर्म भरना होगा.
– 14 दिन के क्वारंटाइन पीरियड का शपथ पत्र देना होगा.
– यात्रियों के नेगेटिव आरटी-पीसीआर जांच रिपोर्ट देने पर संस्थागत क्वारंटाइन से मुक्ति मिल सकती है.
– जांच रिपोर्ट 96 घंटे से ज्यादा पुरानी नहीं होनी चाहिए.
– रिपोर्ट को पोर्टल पर अपलोड करना अनिवार्य है.
– रिपोर्ट में अगर किसी भी तरह का फर्जीवाड़ा पाया जाता है, तो जिम्मेदार युवक पर कार्रवाई हो सकती है-
– गर्भवति महिलाओं, परिवार में किसी की मृत्यु और साथ में 10 साल से कम के बच्चे के होने की स्थिति में होम आइसोलेशन की अनुमति दी जा सकती है.