मध्य प्रदेश: एमपी के खरगोन जिले में 15 वर्षीय बलात्कार पीड़िता ने आत्महत्या कर ली. पीड़िता के पिता ने पुलिस पर आरोप लगाते हुए कहा है कि शिकायत दर्ज करने से इनकार करने के बाद बच्ची ने ऐसा कदम उठाया. पीड़िता के पिता के अनुसार, आशापुर गांव के रहने वाले बच्चू सुखराम बुंदेला द्वारा उनकी बेटी का अपहरण और बलात्कार किया गया था.Also Read - ओबीसी आरक्षण के मामले में एमपी सरकार सुप्रीम कोर्ट में दायर करेगी संशोधित याचिका

Also Read - नाबालिग बेटी से बार-बार रेप करने के मामले में 'कलयुगी बाप' को अदालत ने सुनाई 106 साल की सजा

घटना के बाद, जब वह और उसकी बेटी कक्कड़ पुलिस चौकी और उसके बाद महेश्वर पुलिस थाने गए, तो पुलिस ने उनकी शिकायत दर्ज करने से इनकार कर दिया और इसके बजाय उनकी बेटी के चरित्र पर सवाल उठाया. पुलिस ने पिता द्वारा लगाए गए आरोप को गलत ठहराया है. अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (एएसपी) शशिकांत कांकने ने कहा कि “एक महिला पुलिस अधिकारी बलात्कार की घटना के संबंध में जांच के लिए गई थी. Also Read - खरगोन हिंसा: एमपी सरकार ने दंगा प्रभावितों के लिए एक करोड़ रुपए की सहायता जारी की

पीड़िता को पुलिस स्टेशन आने के लिए कहा गया था रिपोर्ट लिखाने लेकिन उसने नहीं किया.” उन्होंने कहा, “हमने मामला दर्ज कर लिया है और आरोपी (बुंदेला) को गिरफ्तार कर लिया गया है.” कांकेन ने कहा कि पीड़िता ने कीटनाशक का सेवन किया और जिला अस्पताल में इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई.

इनपुट- एएनआई