नई दिल्ली: जामिया मिल्लिया इस्लामिया के बाहर खाली प्रदर्शन स्थल पर किसी अज्ञात व्यक्ति ने गोली चलाई और पेट्रोल बम फेंका. विश्वविद्यालय के अधिकारियों और विद्यार्थियों ने यह जानकारी दी. जामिया समन्वय समिति (जेसीसी) ने कोरोना वायरस प्रकोप के मद्देनजर संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के खिलाफ अपना धरना प्रदर्शन शनिवार को अस्थायी रूप से रोक दिया था. वहीं, इसी तरह की घटना कुछ दूरी पर शाहीन बाग प्रदर्शन स्थल पर भी हुई जहां एक अज्ञात व्यक्ति ने पेट्रोल बम फेंका. घटना में किसी को भी चोट नहीं आई है. Also Read - शाहीनबाग: फर्नीचर की दुकान में लगी आग, मौके पर पहुंचे दमकलकर्मी, कोई हताहत नहीं

जेसीसी ने एक बयान में बताया कि शरारती तत्व ने विश्वविद्यालय के गेट नंबर सात, जामिया चौराहे पर प्रदर्शन स्थल पर गोली चलाई और पेट्रोल बम फेंका. Also Read - शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों को हटाया तो लोगों ने दिल्‍ली पुलिस के अफसर-कर्मियों को दिए फूल

बयान में बताया गया कि सीसीटीवी फुटेज में शरारती तत्व डिलिवरी ब्व़ॉय की वेशभूषा में दिख रहा है और उसकी बाइक पर एक हेलमेट और तीन बैग रखे हुए हैं जिसके चलते नंबर प्लेट नहीं दिख रही है. इसमें कहा गया, “पुलिस ने गोली हटा ली है जबकि कांच की बोतल के टुकड़े अब भी वहां पड़े हुए हैं. Also Read - कोरोनावायरसः पुलिस ने खाली कराया शाहीन बाग, सौ दिन से चल रहा था CAA के खिलाफ प्रोटेस्ट

विश्वविद्यालय के एक अधिकारी के मुताबिक यह घटना सुबह साढ़े नौ बजे के करीब हुई. उन्होंने बताया, “व्यक्ति संभवत: शाहीन बाग में इसी तरह की घटना को अंजाम देने के बाद ओखला की तरफ से आया था . उसने गेट नंबर सात के पास तंबू पर बोतल उछाली.” यह तंबू खाली था क्योंकि छात्रों ने फिलहाल के लिए प्रदर्शन रोका हुआ है.

अधिकारी ने बताया कि तंबू में आग नहीं लगने पर व्यक्ति ने लाइटर से उसे जलाने की कोशिश की और कुछ गोलियां चलाईं.
उन्होंने कहा, “हमने घटना के बारे में पुलिस को सूचित कर दिया है और उन्हें सीसीटीवी फुटेज सौंप दी है.” उन्होंने बताया कि घटना के बाद शरारती तत्व जुलेना की ओर भाग गया.

इसी तरह की घटना कुछ दूरी पर शाहीन बाग प्रदर्शन स्थल पर भी हुई जहां एक अज्ञात व्यक्ति ने पेट्रोल बम फेंका. घटना में किसी को भी चोट नहीं आई है.