आइजोल: मिजोरम के मुख्यमंत्री ललथनहवला ने सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ) एस बी शशांक को तुरंत पद से हटाने की मांग करते हुए कहा कि लोगों का उनके प्रति भरोसा खत्म हो चुका है. मुख्यमंत्री ने पत्र में कहा है कि सुचारू रूप से 28 नवंबर को होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए शशांक को हटाना ही एकमात्र विकल्प है.

मिजोरम में चुनाव से पहले विधानसभा के अध्यक्ष ने कांग्रेस छोड़ा, भाजपा में हुए शामिल

मुख्यमंत्री ने पत्र में लिखा है कि मिजोरम के लोगों का शशांक के प्रति भरोसा खत्म हो चुका है, जिन्होंने मीडिया के एक धड़े के मुताबिक, चुनाव आयोग से शिकायत की है कि प्रधान सचिव (गृह) ललनुनमाविया चुआउंगो चुनावी प्रक्रिया में दखल दे रहे हैं. चुआउंगो 1987 बैच के गुजरात कैडर के आईएएस अधिकारी हैं. उन्हें राज्य में उनकी जिम्मेदारी से मुक्त कर दिया गया है.

चुनाव आयोग ने उन्हें दिल्ली में गृह मंत्रालय के समक्ष रिपोर्ट करने को कहा है. मिजोरम में 40 सदस्यीय विधानसभा के लिए 28 नवंबर को चुनाव होगा.

प्रधानमंत्री को अपने पत्र में मुख्यमंत्री ने लिखा है, ”लोगों का उनके प्रति भरोसा खत्म हो चुका है, इसलिए 2018 का विधानसभा चुनाव अब सुचारू रूप से करवाने के लिए सीईओ एस बी शशांक को उनके पद से हटाया जाए.” पत्र की एक प्रति न्‍यूज एजेंसी के पास उपलब्ध है. उन्होंने सुझाव दिया है कि शशांक की जगह अतिरिक्त मुख्य चुनाव अधिकारी को जिम्मेदारी सौंपी जाए.

मुख्यमंत्री ने कहा है, ”अगर इस समय इंतजाम में मुश्किल हो तो अतिरिक्त सीईओ को शशांक की जिम्मेदारी दी जा सकती है.” इससे पहले दिन में शशांक ने प्रेस कॉन्‍फेंस को संबोधित करते हुए कहा कि वह केवल चुनाव आयोग द्वारा दिए गए निर्देशों के तहत अपनी जिम्मेदारियों का निर्वहन कर रहे थे.