मुंबई: महाराष्‍ट्र नवनिर्माण सेना के विधायक मौका मिलते ही अपनी दबंगई दिखाने से बाज नहीं आते. इसका ताजा उदाहरण शुक्रवार को मुंबई एयरपोर्ट पर देखने को मिला जब पार्टी के एक नेता नितिन नंदगोकर ने ऑटो ड्राइवर से सरेआम उठक-बैठक लगवाई.

मामला यह था कि नंदगोकर ने एयरपोर्ट पर एक ऑटो चालक को देखा जिसने न तो ड्रेस पहनी थी और न ही बैज लगाया था. नितिन ने इसे गैरकानूनी मानते हुए सड़क पर ही ऑटो ड्राइवर को उठक-बैठक लगाने को मजबूर कर दिया. उनका यह पुलिसिया अंदाज वहां मौजूद लोगों के लिए कौतूहल का विषय बन गया.

मीडिया में खबर आने के बाद भी नंदगोकर ने इस मामले में किसी गलती से इंकार किया. इस बारे में पूछे जाने पर उन्‍होंने कहा कि ऑटो ड्राइवर ने यूनिफॉर्म और बैज नहीं लगाया था. मैंने उससे कहा कि कानून का पालन करना चाहिए. मैंने वहीं किया जो मुझे करना चाहिए था.

यह सही है कि मुंबई में ऑटो चालकों के लिए यूनिफॉर्म और बैज पहनना अनिवार्य है, लेकिन इस कानून का पालन कराने की जिम्‍मेदारी ट्रैफिक पुलिस और ट्रांसपोर्ट मंत्रालय की है. यदि नेता सड़क पर खुद ही ऐसा करने लगे तो कानून-व्‍यवस्‍था की मुश्किलें हो सकती हैं.

यह पहला मामला नहीं है जब एमएनएस के कार्यकर्ताओं ने कानून अपने हाथ में लिया है. पिछले साल दिसंबर में पार्टी के कार्यकर्ताओं ने लोअर पारेल में कांग्रेस कार्यालय पर तोड़फोड़ की थी. पिछले साल जुलाई में पार्टी कार्यकर्ताओं ने माहिम क्षेत्र में ज्‍वेलरी और होटल मालिकों से गुजराती भाषा में लिखे साइनबोर्ड हटाने के लिए मारपीट की थी. इसी साल अप्रैल महीने में कार्यकर्ताओं ने लोअर पारेल में एक कपड़ा व्‍यवसायी के दुकान में मारपीट की थी क्‍योंकि उसके द्वारा बेचे जाने वाले कपड़ों पर मेड इन पाकिस्‍तान का टैग लगा था.