हैदराबाद: तेलंगाना के मुख्य निर्वाचन अधिकारी रजत कुमार ने कहा कि आगामी चुनावों के मद्देनजर तेलंगाना में राजनीतिक पार्टियों और समूहों के सोशल मीडिया पर डाले जाने वाले पोस्ट की कड़ी निगरानी की जाएगी. Also Read - Women Backflips In Saree: साड़ी में महिला ने किए ऐसे बैकफ्लिप्स, देख लोगों का दिमाग भन्ना गया...

Also Read - बिग बॉस 14 : कविता कौशिक और रुबीना में जबरदस्त लड़ाई, बात मारधाड़ तक पहुंची, वीडियो वायरल

खून में इस कमी की वजह से बौद्धिक अक्षम हो रहे भारतीय बच्चे, रिपोर्ट में हुआ खुलासा Also Read - प्रतीक बब्बर ने बदला हुलिया, लाल किए बाल और आईब्रो, बोले- लोग मुझ पर हंसते....

आपत्तिजनक सामग्री तो नहीं !

उन्होंने बताया कि राजनीतिक पार्टियों और समूहों के पोस्ट चुनाव आयोग की निगरानी में रहेंगे ताकि यह जांच की जा सके कि आदर्श आचार संहिता के तहत, उनमें कोई आपत्तिजनक सामग्री तो नहीं है जिससे क़ानून का उल्लंघन होता है. ऐसा पाए जाने पर सम्बंधित व्यक्ति के खिलाफ साइबर क्राइम और आईपीसी की सुसंगत धाराओं में केस दर्ज कर कार्रवाई की जाएगी.

7 दिसम्बर को हैं चुनाव

उन्होंने बताया कि सोशल मीडिया के मुद्दों पर मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ) की मदद के लिए तेलंगाना में एक एजेंसी नियुक्त की गई है और राष्ट्रीय तथा राज्य स्तर पर ईसी, गूगल और फेसबुक जैसी कंपनियों के संपर्क में है, जिन्होंने आदर्श आचार संहिता (एमसीसी) के उल्लंघन के मामलों में सहयोग का आश्वासन दिया है. तेलंगाना में विधानसभा चुनाव आगामी 7 दिसम्बर को प्रस्तावित हैं.

MP: ‘आदर्श आचार संहिता’ से किसान परेशान, चीफ सेक्रेटरी को लिखा पत्र

अधिकारी ने बताया कि तेलंगाना के पुलिस महानिदेशक एम.महेन्द्र रेड्डी ने आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन के मामलों में कार्रवाई करने के लिए साइबर इकाई की मदद की भी पेशकश की गई है. उन्होंने कहा,‘‘स्रोत की पहचान की जाएगी और आईपीसी तथा साइबर अपराधों की प्रासंगिक धाराओं के तहत उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.’’ (इनपुट एजेंसी)