चेन्नई: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सोमवार को कहा कि पिछले सप्ताह उनकी अमेरिकी यात्रा के दौरान उच्च स्तरीय बैठकों में हर जगह नए भारत को लेकर आशावाद का उल्लेख हुआ. उन्होंने साथ ही कहा कि भारतीय समुदाय ने विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में विश्वस्तर पर अपनी छाप छोड़ी है. साथ ही पीएम मोदी ने छात्रों से कहा कि वे कहीं भी जाएं लेकिन अपनी भारत माता को जरूर याद रखें.

उन्होंने आईआईटी मद्रास के 56वें दीक्षांत समारोह में कहा कि ये छात्र ऐसे समय में स्नातक उत्तीर्ण हो रहे हैं ‘‘जब दुनिया भारत को अद्वितीय अवसरों के देश के रूप में देख रही है.’’ मोदी ने कहा, ‘‘मैं अभी अमेरिका से लौटा हूं. इस यात्रा के दौरान मैंने कई राष्ट्राध्यक्षों, उद्योगपतियों, इनोवेटर्स, इन्वेस्टर्स से मुलाकात की. इन सभी के साथ बातचीत के दौरान, भारत को लेकर आशावाद और भारत के युवकों की क्षमताओं में विश्वास का उल्लेख हुआ.’’

उच्चतम न्यायालय ने किया फारूक अब्दुल्ला की पेशी की मांग वाली याचिका पर सुनवाई से इनकार

उन्होंने कहा कि भारतीय समुदाय ने पूरे विश्व में एक छाप छोड़ी है… विशेषकर साइंस, टेक्नोलॉजी और इनोवेशन के क्षेत्र में. उन्होंने कहा कि ऐसा करने वालों में कई ‘‘आपके आईआईटी सीनियर्स हैं.’’ मोदी ने कहा, ‘‘आप भारत के ब्रैंड को विश्वस्तर पर मजबूत बना रहे हैं.’’

उन्होंने स्नातक करने वाले छात्रों को उन अवसरों का उपयोग करने के लिए कहा, जो उनका इंतजार कर रहे हैं. साथ ही उनसे देश की आवश्यकताओं को ध्यान में रखने की बात भी कही. मोदी ने छात्रों से कहा, ‘‘आप जहां मर्जी काम करें, जहां मर्जी रहें, अपनी मातृभूमि की आवश्यकताओं को ध्यान में रखें. सोचें कि आपका काम, इनोवेशन और रिसर्च एक साथी भारतीय की मदद कैसे कर सकता है.’’

(इनपुट भाषा)