भारत में कोरोना वायरस (Coronavirus) महामारी का प्रकोप चिंता का विषय बना हुआ है. इस बीच केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार (Narendra Modi Government) ने उन ट्विटर अकांउट्स के खिलाफ कार्रवाई की है जो महामारी के संबंध में फर्जी खबरें फैला रहे हैं. एक रिपोर्ट के मुताबिक सरकार ने ऐसे टविटर हैंडल की जांच शुरू कर दी है. केंद्र की शिकायत के बाद ट्विटर (Twitter) भी एक्शन में आ गया है और शिकायत के बीच ऐसे कुछ ट्वीट्स ब्लॉक भी किए हैं. सूत्रों ने स्पष्ट किया है कि ये कार्रवाई सरकार विरोधी ट्वीट्स से जुड़ी नहीं है.Also Read - Chachaji Ka Video: चाचाजी की मोदी सरकार से अपील- पेट्रोल 2000 रुपये लीटर कर दो प्लीज, तभी पता चलेगा कितने अमीर हैं हम | देखिए

इंडिया टुडे ने ट्विटर इंडिया के हवाले से बताया- हमें जब वैध कानूनी अनुरोध मिलता है तो ट्विटर नियमों और स्थानीय कानूनों के तहत जांच की जाती है. ऐसे में अगर सोशल प्लेटफॉर्म पर कोई कंटेंट नियमों के खिलाफ होता है तो उसे तुरंत हटा दिया जाता है. कार्रवाई के बाद ऐसे हैंडल को सूचित भी किया जाता है, ताकि वो आगे इस तरह का कंटेंट शेयर ना करे. इसके लिए ट्विटर यूजर के ईमेल पर एक मेल भेजा जाता है जिसमें उसके खिलाफ कानूनी आदेश की जानकारी दी जाती है. Also Read - Power Crisis: रिकॉर्ड तोड़ गर्मी में बेतहाशा बिजली कटौती जारी! कोयले की कमी को लेकर सियासी घमासान | 10 बड़ी बातें

मालूम हो कि सरकार के निर्देश के बाद ट्विटर ने कई बड़ी मशहूर हस्तियों के ट्वीट ब्लॉक कर दिए हैं. इनमें कांग्रेस के लोकसभा सांसद रेवनाथ रेड्डी, बंगाल की ममता सरकार में मंत्री मलय घटक, एक्टर विनीत कुमार सिंह, फिल्मकार विनोद कापड़ी और अविनाश दास का नाम शामिल है. सरकार ने ट्विटर को भेजे एक नोटिस में कहा कि इनके ट्वीट भारत के आईटी कानून का अनुपालन नहीं करते. Also Read - Defense Import: मोदी सरकार ने लिया बड़ा फैसला, रक्षा आयात में होगी कटौती, घरेलू रक्षा उद्योग को मिलेगा बढ़ावा | Watch Video

हालांकि ट्विटर ने सार्वजनिक नहीं किया है कि किन ट्वीट्स को ब्लॉक किया है और इनके खिलाफ कार्रवाई क्यों की गई. इसने ट्वीट्स करने वाले यूजर्स को नोटिस भेजा है. इसमें कहा कि जो ट्वीट किए गए वो भारत सरकार के मुताबिक भारतीय कानून का उल्लंघन करते हैं.