नयी दिल्ली: केन्द्रीय उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्री रामविलास पासवान ने कहा है कि देश में एक ही राशन कार्ड को लागू करने की योजना पर सरकार काम कर रही है. पासवान ने शुक्रवार को राज्यसभा में प्रश्नकाल में बताया कि सार्वजनिक वितरण प्रणाली को पूरी तरह से ‘कैशलेस’ बनाये जाने के साथ ही सरकार की योजना ‘वन नेशन वन राशन’ कार्ड की सुविधा भी उपलब्ध कराने की है. इससे आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लोगों को देश में कहीं भी अपने हिस्से का राशन प्राप्त करने की सुविधा मिल सके. Also Read - Labor Laws In India: कर्मचारियों की EL बढ़ाकर 300 करने और PF के मामले में केंद्र सरकार ले सकती है बड़ा फैसला

यूपी में मिशन 2022 में जुटी भाजपा! अब इस खास वर्ग को पार्टी से जोड़ने की मुहिम शुरू Also Read - सरकार और किसानों की आज होने वाली बैठक टली, अब 20 जनवरी को होगी अगली मीटिंग

पासवान ने एक पूरक प्रश्न के जवाब में बताया कि संयुक्त राष्ट्र द्वारा निर्धारित लक्ष्य के तहत 2030 तक देश को गरीबी से मुक्त कराने के लिये खाद्य सुरक्षा अधिनियम 2013 के अनुसार शहरी क्षेत्रों में 50 प्रतिशत और ग्रामीण क्षेत्रों में 75 प्रतिशत आबादी को सार्वजनिक वितरण प्रणाली (पीडीएस) के दायरे में लाये जाने की दिशा में सरकार आगे बढ़ रही है. उन्होंने बताया कि देश की दो तिहाई आबादी को पीडीएस के दायरे में लाते हुये दो रुपये प्रति किग्रा की दर से गेंहू और तीन रुपये प्रति किग्रा की दर से चावल मुहैया कराया जा रहा है. Also Read - कांग्रेस का मोदी सरकार से सवाल, कितने करोड़ लोगों को कोरोना का मुफ्त टीका मिलेगा और किसको नहीं मिलेगा?

मराठा आरक्षण वैध, लेकिन इसे 16 से घटाकर 12-13 प्रतिशत करना चाहिए: हाईकोर्ट

पीडीएस व्यवस्था पूरी तरह से कैशलेस
उन्होंने पीडीएस में वितरण संबंधी किसी तरह की खामी से इंकार करते हुये कहा कि व्यवस्था पूरी तरह से कैशलेस होने के बाद इसमें हेराफेरी की कोई गुंजाइश नहीं रहेगी. पासवान ने स्पष्ट किया कि पीडीएस के दायरे में आने के लिये लाभार्थी को आधार कार्ड दिखाने की अनिवार्यता नहीं है.