नई दिल्ली: केंद्र की मोदी सरकार जल्द ही किसानों के लिए बड़ी सौगात दे सकती है. तमाम मुश्किलों और परेशानियों से गुजर रहे कृषि क्षेत्र की समस्याएं दूर करने के मकसद से केन्द्र सरकार द्वारा विभिन्न उपायों पर विचार किए जाने की अटकलों के बीच कृषि राज्य मंत्री पुरुषोत्तम रूपाला ने कहा कि सरकार जल्द ही किसानों की आय बढ़ाने के लिए एक पैकेज की घोषणा करेगी. हालांकि, मंत्री ने यह स्पष्ट नहीं किया कि क्या यह राहत पैकेज एक फरवरी को पेश होने वाले बजट का हिस्सा होगा या इससे पहले इसकी घोषणा की जाएगी. रूपाला ने गुरुवार को को कृषि मंत्रालय की तरफ से वित्त मंत्रालय को साल 2019-20 के बजट के लिए भेजे गए सुझावों को साझा करने से भी इनकार कर दिया.

हाईकोर्ट का आदेशः बाबा रामदेव का अपमान करने वाले Video को फेसबुक, गूगल और टि्वटर से हटाएं

किसानों के लिए प्रस्तावित पैकेज के बारे में पूछे जाने पर रूपाला ने कहा, “आपको लंबे समय तक इंतजार नहीं करना पड़ेगा.” सूत्रों ने इससे पहले कहा था कि सरकार समय पर कर्ज चुकाने वाले किसानों के लिए फसली ऋण पर ब्याज पूरी तरह माफ कर सकती है, इससे सरकारी खजाने पर 15,000 करोड़ रुपए तक का अतिरिक्त बोझ आयेगा. खाद्यान्न वाली फसलों के लिए बीमा पॉलिसी पर प्रीमियम को पूरी माफ करने का भी प्रस्ताव है. केंद्र तेलंगाना और ओडिशा सरकारों द्वारा लागू की जा रही योजना का मूल्यांकन भी कर रहा है जिसमें किसानों के खाते में एक निश्चित राशि सीधे हस्तांतरित कर दी जाती है.

बिहार: सीट बंटवारा बना चुनौती, बिना कांग्रेस आरजेडी बनाएगी ‘महागठबंधन’!

इससे पहले, कृषि ज़ैद/ग्रीष्मकालीन अभियान 2019 पर राष्ट्रीय सम्मेलन को संबोधित करते हुए, मंत्री ने कहा कि सरकार रबी और खरीफ मौसम के बीच होने वाली खेती के रकबे को बढ़ाने पर भी गौर कर रही है ताकि किसानों की आय बढ़ाई जा सके. उन्होंने कहा कि यह पहली बार है जब इन पहलुओं पर ध्यान केंद्रित करने के लिए एक अभियान शुरू किया गया है.

प्रियंका को पद देकर राहुल ने कबूला कि वह अकेले राजनीति नहीं कर सकते: लोकसभा अध्यक्ष

कृषि सचिव संजय अग्रवाल ने कहा कि वर्तमान में ग्रीष्मकालीन फसल सत्र में खेती का रकबा लगभग 45 लाख हेक्टेयर है, जिसमें से 20 लाख हेक्टेयर में धान लगाया जाता है. इस सत्र में चावल का उत्पादन 20 लाख हेक्टेयर से लगभग 45 लाख टन का रहा है. उन्होंने कहा कि सरकार गैर-धान फसलों जैसे दलहन, मोटे अनाज और तिलहन का रकबा 25 लाख हेक्टेयर से बढ़ाकर 50 लाख हेक्टेयर करने का लक्ष्य कर रही है. उन्होंने कहा कि इससे गर्मी के मौसम में कुल खेती का रकबा 70 लाख हेक्टेयर हो जाएगा.

ईडी ने Rs. 1,500 करोड़ की गोमती रिवर फ्रंट परियोजना के मामले में कई राज्यों में की छापेमारी

कृषि आयुक्त एस के मल्होत्रा ​​ने कहा, “हम धान फसल के रकबे को और नहीं बढ़ाना चाहते हैं, क्योंकि इसमें अधिक पानी की आवश्यकता होती है.” आयुक्त ने कहा कि अगर खेती के रकबे में लक्षित वृद्धि को हासिल किया जाए तो गर्मी के मौसम में गैर-धान फसलों का उत्पादन दोगुना होकर 50 लाख टन हो सकता है.

सीबीआई ने ICICI की पूर्व सीईओ चंदा कोचर और वीडियोकॉन ग्रुप के एमडी धूत के खिलाफ केस दर्ज किया