नई दिल्ली: कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने राफेल विमान सौदे को लेकर गुरुवार को नरेंद्र मोदी सरकार पर फिर हमला बोला और दावा किया कि ‘चोरी से रोकने वाले’ अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई की गई. गांधी ने एक अखबार की खबर शेयर करते हुए ट्वीट किया, ‘ मोदी-अंबानी का देखो खेल, एचएएल से छीन लिया राफेल. धन्नासेठों की कैसी भक्ति, घटा दिया सेना की शक्ति. जिस अफसर ने चोरी से रोका, ठगों के सरदार ने उसको ठोका.

उन्होंने कहा, ‘पिट्ठुओं को मिली शाबाशी, सेठों ने उड़ती चिड़िया फाँसी. जन-जन में फैल रही है सनसनी, मिलकर रोकेंगे लुटेरों की कंपनी.’ गांधी ने जो खबर शेयर की है उसके मुताबिक, साल 2016 में राफेल विमान समझौता होने पर रक्षा मंत्रालय के एक संयुक्त सचिव ने विमानों की कीमत को लेकर सवाल किया था. यह अधिकारी विमान खरीद के लिए बातचीत करने वाली समिति का हिस्सा था.

इससे पहले कांग्रेस ने दावा किया था कि 36 राफेल विमानों के लिए 300 फीसदी ज्यादा भुगतान करने पर सवाल करने वाले रक्षा मंत्रालय के अधिकारी को नरेंद्र मोदी सरकार ने छुट्टी पर भेज दिया. पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने एक अखबार की रिपोर्ट शेयर करते हुए ट्वीट किया’ मोदी सरकार ने 36 राफेल विमानों के लिए 300 फीसदी अतिरिक्त राशि का भुगतान कर सरकारी खजाने को नुकसान पहुंचाने पर सवाल करने वाले व्हिसलब्लोअर संयुक्त सचिव (एयर) को छुट्टी पर भेज दिया.

उन्होंने दावा किया, ‘संयुक्त सचिव की आपत्ति को दरकिनार करने वाली अधिकारी स्मिता नागराज को यूपीएससी का सदस्य बना दिया गया. मोदी सरकार को खुश करने का ईनाम मिला. सुरजेवाला ने जो खबर शेयर की है उसके मुताबिक 2016 में राफेल विमान समझौता होने पर इस संयुक्त सचिव ने विमानों की कीमत को लेकर सवाल किया था. यह अधिकारी विमान खरीद के लिए बातचीत करने वाली समिति का हिस्सा था.