No clearance of Chinese goods at airports: पूर्वी लद्दाख में एलएसी पर चीन की सेना के साथ हुई झड़प के बाद से भारत सरकार ने आर्थिक स्तर पर चीन को जवाब देना शुरू कर दिया है. इस झड़प में भारत के 20 सैनिक शहीद हो गए थे. इसी का बदला लेने के लिए सरकार ने कई स्तरों पर चीन को जवाब देना शुरू कर दिया है.Also Read - Video में जानें इजरायली Heron Drone कैसे करेगा LAC पर चीनी हरकतों की निगहबानी

इसी कड़ी में कोलकाता के सुषाभचंद्र बोस अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे पर कस्टम विभाग ने चीन से लाए जाने वाले सामानों को कस्टम क्लियरेंस देना बंद कर दिया है. ऐसा केवल कोलकाता एयरपोर्ट ही नहीं बल्कि देश के सभी एयरपोर्ट्स और बंदरगाहों पर है. रिपोर्ट्स के मुताबिक ऐसा देश में चीन निर्मित सामानों का बहिष्कार करने को लेकर चलाए जा रहे अभियान के तहत किया जा रहा है. Also Read - चीन की सत्‍तारूढ़ CPC ने माना, पीपल्स लिबरेशन आर्मी पर उसका नियंत्रण कुछ समय के लिए कमजोर पड़ा था

हालांकि आधारिक तौर पर कस्टम अधिकारी इस बारे में कुछ भी नहीं बोल रहे हैं. Also Read - Ladakh Standoff: लद्दाख में डिसइंगेजमेंट प्रक्रिया शुरू, LAC पर सहमति के बाद पीछे हट रहीं भारतीय और चीनी टैंकें - देखें Video

टाइम्स ऑफ इंडिया ने एयर कार्गो एजेंट्स एसोसिएशन के हवाले रिपोर्ट की है कि सीमा शुल्क विभाग के अधिकारियों को आंतरिक तौर पर यह निर्देश दिया गया है. इसमें चीन से आने वाले सभी कंसाइन्मेंट्स को क्लिरेंस नहीं देने की बात कही गई है.

रिपोर्ट में कहा गया है कि जिन कंसाइन्मेंट्स को पहले क्लिरेंस दिया जा चुका था उन्हें भी अब रोक दिया गया है. उनसे कहा गया है कि उनके सामान की फिर से जांच की जाएगी.

रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि कस्टम विभाग को इस बारे में आधिकारिक सर्कुलर जारी करना है. लेकिन कोलकाता के अलावे मुंबई और चेन्नई से भी ऐसी ही रिपोर्ट है.