No clearance of Chinese goods at airports: पूर्वी लद्दाख में एलएसी पर चीन की सेना के साथ हुई झड़प के बाद से भारत सरकार ने आर्थिक स्तर पर चीन को जवाब देना शुरू कर दिया है. इस झड़प में भारत के 20 सैनिक शहीद हो गए थे. इसी का बदला लेने के लिए सरकार ने कई स्तरों पर चीन को जवाब देना शुरू कर दिया है. Also Read - भारत से दस गुना अधिक है चीन की ताकत, वह देश के लिए पाकिस्तान से बड़ा खतरा है: शरद पवार

इसी कड़ी में कोलकाता के सुषाभचंद्र बोस अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे पर कस्टम विभाग ने चीन से लाए जाने वाले सामानों को कस्टम क्लियरेंस देना बंद कर दिया है. ऐसा केवल कोलकाता एयरपोर्ट ही नहीं बल्कि देश के सभी एयरपोर्ट्स और बंदरगाहों पर है. रिपोर्ट्स के मुताबिक ऐसा देश में चीन निर्मित सामानों का बहिष्कार करने को लेकर चलाए जा रहे अभियान के तहत किया जा रहा है. Also Read - PM Narendra Modi reaches Leh: भारत-चीन विवाद के बीच अचानक लेह पहुंचे पीएम मोदी, CDS बिपिन रावत भी साथ में मौजूद

हालांकि आधारिक तौर पर कस्टम अधिकारी इस बारे में कुछ भी नहीं बोल रहे हैं. Also Read - India-China Border Fight Live Update: रक्षा मंत्री का दौरा स्थगित होने के बाद आज CDS जनरल रावत जा रहे हैं लेह

टाइम्स ऑफ इंडिया ने एयर कार्गो एजेंट्स एसोसिएशन के हवाले रिपोर्ट की है कि सीमा शुल्क विभाग के अधिकारियों को आंतरिक तौर पर यह निर्देश दिया गया है. इसमें चीन से आने वाले सभी कंसाइन्मेंट्स को क्लिरेंस नहीं देने की बात कही गई है.

रिपोर्ट में कहा गया है कि जिन कंसाइन्मेंट्स को पहले क्लिरेंस दिया जा चुका था उन्हें भी अब रोक दिया गया है. उनसे कहा गया है कि उनके सामान की फिर से जांच की जाएगी.

रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि कस्टम विभाग को इस बारे में आधिकारिक सर्कुलर जारी करना है. लेकिन कोलकाता के अलावे मुंबई और चेन्नई से भी ऐसी ही रिपोर्ट है.